तेलंगाना के हुजूराबाद, आंध्र के बडवेल उपचुनाव के लिए 28 नामांकन खारिज

तेलंगाना के हुजूराबाद, आंध्र के बडवेल उपचुनाव के लिए 28 नामांकन खारिज
तेलंगाना के हुजूराबाद, आंध्र के बडवेल उपचुनाव के लिए 28 नामांकन खारिज हैदराबाद/अमरावती, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)। तेलंगाना के हुजूराबाद विधानसभा क्षेत्र और आंध्र प्रदेश के बडवेल विधानसभा क्षेत्र में 28 उम्मीदवारों के नामांकन खारिज कर दिए गए हैं, जहां 30 अक्टूबर को उपचुनाव होने हैं।

हुजूराबाद में 19 उम्मीदवारों के नामांकन पत्र खारिज कर दिए गए। तेलंगाना के मुख्य चुनाव अधिकारी शशांक गोयल ने कहा कि 42 उम्मीदवारों के नामांकन वैध पाए गए।

चुनाव अधिकारियों द्वारा जांच के दौरान सभी प्रमुख दलों के उम्मीदवारों के नामांकन क्रम में पाए गए। इनमें सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के गेलू श्रीनिवास रेड्डी, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एटाला राजेंद्र और कांग्रेस के वेंकट नरसिंह राव बालमूर शामिल हैं।

कुल 61 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया था। 42 उम्मीदवारों में से 31 निर्दलीय उम्मीदवार हैं, जिनके पेपर वैध पाए गए।

भूमि अतिक्रमण के आरोपों के बाद मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव द्वारा राज्य मंत्रिमंडल से हटाए जाने के बाद राजेंद्र के विधानसभा से इस्तीफे के कारण उपचुनाव की जरूरत थी।

भाजपा ने जब राजेंद्र को अपने उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारने का वादा किया तब उन्होंने टीआरएस छोड़ दी और जून में भाजपा में शामिल हो गए।

इस बीच, पड़ोसी आंध्र प्रदेश के बडवेल निर्वाचन क्षेत्र में, नौ उम्मीदवारों के नामांकन जांच के दौरान खारिज कर दिए गए। चुनाव आयोग ने मुख्य राजनीतिक दलों सहित 18 उम्मीदवारों के नामांकन क्रम में पाए।

इस साल मार्च में सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) के मौजूदा विधायक डॉ.जी. वेंकटसुब्बैया के निधन के कारण उपचुनाव होना है। वाईएसआरसीपी ने उनकी पत्नी दसारी सुधा को मैदान में उतारा है।

भाजपा ने पुनाथला सुरेश को मैदान में उतारा है, जबकि पूर्व विधायक पी.एम. कमलम्मा कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं। मुख्य विपक्षी दल तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) मुकाबले से दूर है।

चुनाव आयोग द्वारा घोषित मतदान के अनुसार, हुजूराबाद और बडवेल दोनों में नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 13 अक्टूबर है।

मतदान 30 अक्टूबर को होगा, जबकि मतगणना 2 नवंबर को होगी।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Share this story