दंगा कराने वाले कभी नहीं कर सकते तिरंगे का सम्मान : उपमुख्यमंत्री

दंगा कराने वाले कभी नहीं कर सकते तिरंगे का सम्मान : उपमुख्यमंत्री
दंगा कराने वाले कभी नहीं कर सकते तिरंगे का सम्मान : उपमुख्यमंत्री लखनऊ, 5 अगस्त(आईएएनएस)। यूपी के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव निशाना साधा और कहा कि दंगा कराने वाले कभी तिरंगे का सम्मान नहीं कर सकते। बांटने का काम तो अखिलेश यादव ने किया है, जो कुनबा कभी सपा की ताकत था, आज वही सबसे बड़ी कमजोरी बन गया है। उनकी इसी मानसिकता की वजह से आज सपा डूबती नैया बन गई है।

उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने यह बातें शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में कहीं। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव ने सैफई को ही पूरा प्रदेश समझ लिया था, तभी तो प्रदेश के विकास के बजाय वह सिर्फ सैफई तक ही सीमित थे। मेरी उन्हें सलाह है कि रात में सपने देखने के बजाय दिन में देखना शुरू करें। सपा मुखिया ने डिफेंस कारिडोर और गोरखपुर के खाद कारखाना सहित दर्जनों प्रोजेक्ट सपने में ही पूरे कर दिए थे। इसीलिए उन्हें दिन में भी ऐसा ही लगता है।

उन्होंने कहा कि सपा सरकार की सोच ही भाई, भतीजावाद और जातिवाद तक सीमित थी। सपा सरकार में रोजाना दंगे होते थे। जबकि भाजपा सरकार में कानून व्यवस्था की देशभर में दुहाई दी जा रही है। योगी मॉडल दूसरे प्रदेश अपने प्रदेशों में लागू कर रहे हैं। दलितों, पिछड़ों और मुस्लिमों के लिए जितना काम योगी सरकार ने किया है, उतना पिछली किसी सरकार ने नहीं किया होगा। सपा तुष्टीकरण की राजनीति करती है।

पाठक ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई बार इस बात का जिक्र किया है कि जब उनसे मिलने विदेशी प्रतिनिधिमंडल आता था, तो उन्हें यह बताने में शर्म महसूस होती थी कि हम देश की सबसे बड़ी आबादी वाले प्रदेश होने के बावजूद हमारी अर्थव्यवस्था देश में छठे नंबर की है। उन्होंने इसके लिए पिछली सरकारों को भी दोष दिया था कि इस बारे में न उनकी कोई सोच रही और न ही नीति।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते वर्षों में देश की अर्थव्यवस्था को पांच ट्रिलियन यूएस डालर की अर्थव्यवस्था बनाने की बात कही थी। इसके बाद से ही योगी सरकार ने प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन यूएस डालर बनाने की मुहिम शुरू की है। योगी सरकार ने एक ट्रिलियन के लक्ष्य को पाने की दिशा में कार्य शुरू कर दिया है और उसे पूरा भी करेगी।

--आईएएनएस

विकेटी/आरएचए

Share this story