दिल्ली मेट्रो में रोजगार देने के नाम पर बनी फर्जी वेबसाइट, डीएमआरसी ने लोगों को दी चेतावनी

दिल्ली मेट्रो में रोजगार देने के नाम पर बनी फर्जी वेबसाइट, डीएमआरसी ने लोगों को दी चेतावनी
दिल्ली मेट्रो में रोजगार देने के नाम पर बनी फर्जी वेबसाइट, डीएमआरसी ने लोगों को दी चेतावनी नई दिल्ली, 8 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली मेट्रो की ओर से एक हैरान देने वाला मामला सामने आया है, मेट्रो की फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों को नौकरी देने के नाम पर पैसे लेकर धोखाधड़ी किया करते थे, इसपर दिल्ली मेट्रो की ओर से सफाई दी गई है और लोगों को साथ ही चेतावनी भी दी गई है।

दरअसल डीएमआरसी की फर्जी वेबसाइट बनाई गई जिसे आधिकारिक वेबसाइट से जैसा दिखाने का प्रयास किया गया।

डीएमआरसी ने इन फर्जी वेबसाइट के खिलाफ कानून के अनुसार आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है। आम जनता से भी अनुरोध किया है कि भविष्य में ऐसी किसी भी फर्जी भर्ती आधारित ऑनलाइन या ऑफलाइन गतिविधि को तुरंत हमारे संज्ञान में लाएं।

दिल्ली मेट्रो ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि, मेट्रो की एक फर्जी वेबसाइट बनाने का मामला सामने आया है, जिसमें आम लोगों को नौकरी देने के नाम पर उनसे पैसे मांगे जा रहे हैं, वहीं डीएमआरसी की आधिकारिक वेबसाइट की नकल करने की कोशिश भी की गई है और भोले-भाले लोगों को नकली रोजगार के अवसर प्रदान कर रही है।

इसके अलावा इस वेबसाइट द्वारा पैसों की मांग की गई। इसी तरह, कुछ सोशल मीडिया अकाउंट भी डीएमआरसी में रोजगार के अवसर का वादा कर नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं।

दिल्ली मेट्रो द्वारा लोगों को चेतावनी देते हुए कहा गया है कि, डीएमआरसी की रोजगार अधिसूचनाएं केवल इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर दिखाई देती हैं और रोजगार प्रक्रियाएं सरकारी नियमों के अनुसार की जाती हैं।

डीएमआरसी में भर्ती प्रक्रिया पूरी तरह से कम्प्यूटराइज्ड और पारदर्शी है और चयन विशुद्ध रूप से उम्मीदवारों की योग्यता के आधार पर होता है।

दिल्ली मेट्रो में नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों को यह सलाह दी जाती है कि वे डीएमआरसी के साथ नौकरी के अवसरों के लिए आवेदन करते समय अत्यधिक सावधानी बरतें और ऐसा केवल आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से करें।

डीएमआरसी की ओर से इस तरह की प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए किसी अन्य प्लेटफॉर्म को अधिकृत नहीं किया गया है। जबकि, यह विशेष रूप से फर्जी लिंक हमारे संज्ञान में आये हैं। इस तरह के और भी फर्जी लिंक, सोशल मीडिया अकाउंट, डीएमआरसी में नौकरी का वादा करने वाले बिचौलिए आदि हो सकते हैं।

--आईएएनएस

एमएसके/एएनएम

Share this story