धूल विरोधी अभियान: डीपीसीसी, ग्रीन मार्शल दिल्ली में निर्माण स्थलों की करेंगे जांच

धूल विरोधी अभियान: डीपीसीसी, ग्रीन मार्शल दिल्ली में निर्माण स्थलों की करेंगे जांच
धूल विरोधी अभियान: डीपीसीसी, ग्रीन मार्शल दिल्ली में निर्माण स्थलों की करेंगे जांच नई दिल्ली, 6 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय दिल्ली में प्रदूषण को लेकर दिल्ली सरकार लगातार नये-नये हथकंडे अपना रही है। वहीं, अब निर्माण स्थल से निकलने वाले धूल को लेकर धूल विरोधी अभियान शुरू करने का फैसला किया गया है। अभियान का पहला चरण 7 से 29 अक्टूबर तक होगा, इसके लिए निर्माण स्थलों पर नजर रखने के लिए शहर के विभिन्न हिस्सों में 31 टीमों को तैनात किया जाएगा।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार दोपहर दिल्ली में डीपीसीसी और ग्रीन मार्शल के लिए एक प्रशिक्षण सत्र आयोजित करने के बाद मीडिया को बताया कि, अभियान के लिए दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) इंजीनियरों की 17 टीमों और ग्रीन मार्शल की 14 टीमों सहित कुल 31 टीमों का गठन किया गया है। वे यह सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में विभिन्न निर्माण स्थलों की निगरानी करेंगे कि वे दिल्ली सरकार के 14-सूत्रीय दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं।

राय ने कहा, डीपीसीसी की एक-एक टीम पूर्वी दिल्ली, उत्तर-पूर्वी दिल्ली, शाहदरा, दक्षिण-पूर्व और दक्षिण-पश्चिम क्षेत्रों में और दो उत्तर-पश्चिम, नई दिल्ली, दक्षिण, उत्तर, पश्चिम और मध्य दिल्ली में तैनात की जाएगी। राष्ट्रीय राजधानी के प्रत्येक जिले के लिए ग्रीन मार्शल की एक-एक टीम भी नियुक्त की जाएगी।

मंत्री ने आगे कहा, ग्रीन दिल्ली ऐप पर मानदंडों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ शिकायत दर्ज की जाएगी, जिसकी निगरानी ग्रीन वॉर रूम में की जाएगी। संबंधित विभागों की मदद से हम समस्या को हल करने का प्रयास करेंगे। उल्लंघन करने वालों को नोटिस भेजा जाएगा। यदि वे दो दिनों के भीतर स्पष्टीकरण देने में विफल रहते हैं, तो उन पर जुर्माना लगाया जाएगा और अंत में डीपीसीसी उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करेगी जो जुर्माना भरने के बाद भी पर्यावरण को प्रदूषित करते रहते हैं।

2016 के नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के दिशा-निर्देशों के आधार पर, ये जुर्माना भूखंड के आकार के आधार पर 10,000 रुपये से लेकर पांच लाख रुपये तक होगा।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस

Share this story