नीट एग्जाम: भारत के 202 शहरों में 15 लाख से अधिक छात्रों की परीक्षा

नीट एग्जाम: भारत के 202 शहरों में 15 लाख से अधिक छात्रों की परीक्षा
नीट एग्जाम: भारत के 202 शहरों में 15 लाख से अधिक छात्रों की परीक्षा दिल्ली, 12 सितंबर (आईएएनएस)। नीट यूजी 2021 परीक्षा भारत के 202 शहरों में 3,800 से अधिक परीक्षा केंद्रों में रविवार 12 सितंबर को दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे के बीच आयोजित की जा रही है। पूरे देश में 15 लाख 30 हजार से अधिक छात्रों ने परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन किया है। ऑफलाइन मोड में होने जा रही इन परीक्षाओं का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा किया जा रहा है।

एनटीए के मुताबिक शिक्षा मंत्रालय की पहल पर मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट-यूजी पहली बार दुबई में भी आयोजित की जाएगी। दुबई स्थित परीक्षा केंद्र के अलावा कुवैत में भी नीट-यूजी परीक्षा आयोजित करवाई जा रही है।

सामाजिक दूरी के मानदंडों को सुनिश्चित करने के लिए, जिन शहरों में परीक्षा आयोजित की जाएगी, उनकी संख्या 155 से बढ़ाकर 202 कर दी गई है। परीक्षा केंद्रों की संख्या भी 2020 में उपयोग किए गए केंद्रों के मुकाबले बढ़ाई जा रही है।

केंद्र सरकार ने इस बार नीट में परीक्षाओं में 27 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण को लागू करने का फैसला किया है। साथ ही छात्रों को 13 भाषाओं में यह परीक्षा देने की सुविधा प्रदान की गई है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की पहल पर और नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रावधानों के अंतर्गत इस बार छात्रों को इन 13 भाषाओं में यह परीक्षा देने की सुविधा प्रदान की गई है। इनमें अधिकांश भारतीय भाषाएं हैं।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि देश भर में कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए नीट (यूजी) 2021 परीक्षा आयोजित की जाएंगी। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक नीट परीक्षा केंद्रों में कोरोना रोकथाम के सभी उपाय किए जा रहे हैं।

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) का कहना है कि मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट 2021 के लिए छात्रों की वरीयता के आधार पर परीक्षा केंद्रो वाले शहरों की व्यवस्था की गई है। उम्मीदवारों द्वारा दी गई प्राथमिकताओं के आधार पर अधिकांश शहर व परीक्षा केंद्र आवंटित किए गए हैं। नीट परीक्षा शहरों में भारत के वह सभी शहर शामिल हैं जिनमें मेडिकल प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाएगी।

नीट परीक्षा में उत्तीर्ण छात्र देश के विभिन्न प्रतिष्ठित मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस, बीएएमएस, बीएसएमएस, बीयूएमएस और बीएचएमएस समेत विभिन्न कोर्सेज में एडमिशन ले सकेंगे।

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग अधिनियम, 2019 में संशोधन के उपरांत देशभर में स्थित 13 एम्स और पुडुचेरी के जवाहरलाल पीजी चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान के एमबीबीएस पाठ्यक्रम की प्रवेश परीक्षाएं भी नीट के जरिए से ली जा रही हैं।

नीट परीक्षा जिन 13 भाषाओं में आयोजित की जा रही है उनमें अंग्रेजी, हिंदी, असमिया, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, मराठी, ओडिया, पंजाबी, तमिल, तेलुगू शामिल हैं।

--आईएएनएस

जीसीबी/आरजेएस

Share this story