नीतीश कुमार ने राजपूत समुदाय से जदयू के पक्ष में एकजुट होने की अपील की

नीतीश कुमार ने राजपूत समुदाय से जदयू के पक्ष में एकजुट होने की अपील की
नीतीश कुमार ने राजपूत समुदाय से जदयू के पक्ष में एकजुट होने की अपील की पटना, 23 जनवरी (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले सोमवार को राजपूत समुदाय के लोगों से जदयू के पक्ष में एकजुट होने की अपील की।

उन्होंने यहां मिलर हाईस्कूल मैदान में उनकी पार्टी द्वारा महाराणा प्रताप की पुण्यतिथि पर आयोजित स्वाभिमान दिवस नामक एक कार्यक्रम में यह अपील की। उच्च जाति के राजपूतों को भाजपा का मुख्य मतदाता माना जाता है और नीतीश कुमार इस समुदाय में पैठ बनाने की कोशिश कर रहे हैं। वह सहयोगी राजद को भी चुनौती दे रहे हैं, जो केवल अपने मूल मुस्लिम और यादव समर्थकों पर निर्भर रहने के बजाय ए टू जेड पार्टी होने का दावा कर रही है।

जदयू ने मेहमानों का भव्य अंदाज में स्वागत और भोज में चिकन और चावल के अलावा अन्य खाद्य पदार्थो की पेशकश की।

इस अवसर पर, राज्यभर से राजपूत समुदाय के 50,000 से अधिक लोग इस स्थान पर एकत्रित हुए। इस दौरान राजपूत समुदाय ने गोपालगंज के तत्कालीन डीएम जी. कृष्णय्या की हत्या के आरोप में सहरसा जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे बाहुबली नेता आनंद मोहन को रिहा करने की मांग की।

मांग पर प्रतिक्रिया देते हुए नीतीश कुमार ने मंच से उन्हें बताया कि वह इस संबंध में प्रयास कर रहे हैं और आनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं। उन्होंने इस बारे में उनसे संपर्क करने को कहा।

नीतीश कुमार ने कहा, हम समता पार्टी के समय से ही राजपूत समुदाय के लोगों को सम्मान दे रहे हैं। लोकसभा और विधानसभा चुनाव में टिकट देने के अलावा हमने कई राजपूत नेताओं को विधान परिषद और राज्यसभा भेजा है। हमने हाल ही में शहर के बीच में महाराणा प्रताप की प्रतिमा स्थापित की है।

इस कार्यक्रम में नीतीश कुमार के अलावा ललन सिंह, वशिष्ठ नारायण सिंह, विजय कुमार चौधरी, अशोक चौधरी, संजय झा, सुमित सिंह, लेसी सिंह, नीरज कुमार सहित जदयू के तमाम नेता मौजूद थे।

इस कार्यक्रम का आयोजन जद-यू एमएलसी संजय सिंह ने किया था, जिन्होंने बिहार में दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर एक फिल्म सिटी और महाराणा प्रताप के नाम पर एक मेडिकल कॉलेज की मांग की थी।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Share this story