पंजाब विधान सभा चुनाव - कांग्रेस और अकाली दल के नेताओं ने थामा भाजपा का दामन

पंजाब विधान सभा चुनाव - कांग्रेस और अकाली दल के नेताओं ने थामा भाजपा का दामन
पंजाब विधान सभा चुनाव - कांग्रेस और अकाली दल के नेताओं ने थामा भाजपा का दामन नई दिल्ली, 11 जनवरी (आईएएनएस)। पंजाब को लेकर भाजपा का विस्तार अभियान लगातार जारी है। मंगलवार को अकाली दल और कांग्रेस के 4 बड़े नेताओं ने अपने समर्थकों के साथ भाजपा के राष्ट्रीय मुख्यालय में पार्टी का दामन थाम लिया। कांग्रेस के पूर्व विधायक अरविंद खन्ना, शिरोमणि अकाली दल के महासचिव गुरदीप सिंह गोशा, पटियाला शहर के बड़े नेता कंवर सिंह तोहड़ा और अमृतसर से धर्मवीर सरीन को पार्टी में शामिल कर भाजपा ने राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस के साथ-साथ अकाली दल को भी बड़ा राजनीतिक झटका दे दिया है। पंजाब के भाजपा चुनाव प्रभारी एवं केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, पंजाब भाजपा के प्रभारी एवं राष्ट्रीय महासचिव दुष्यंत गौतम की मौजदूगी में ये नेता मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गए।

केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि दो बार लगातार विधायक रह चुके अरविंद खन्ना ने राजनीति से विराम ले लिया था, लेकिन एक बार फिर से ये भाजपा में शामिल होकर राजनीति में सक्रिय होने जा रहे हैं और उनके आने से राज्य में पार्टी को मजबूती मिलेगी। उन्होने पंजाब के प्रभावशाली राजनीतिक परिवार से जुड़े युवा नेता कंवर सिंह तोहड़ा और उनकी पत्नी के साथ-साथ, अकाली नेता गुरदीप सिंह गोशा और धर्मवीर सरीन का पार्टी में स्वागत करते हुए दावा किया कि पंजाब में भाजपा का कुनबा लगातार बढ़ रहा है और इनके पार्टी में शामिल होने के बाद राज्य के लोगों और युवाओं में पार्टी की पकड़ और मजबूत होगी।

5 जनवरी को प्रधानमंत्री की सुरक्षा में हुई चूक के मसले पर एक बार फिर से राज्य की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए शेखावत ने कहा कि उस दिन पंजाब के इतिहास में सबसे बड़ी रैली होने वाली थी, लेकिन कांग्रेस की वजह से देश के लोकतांत्रिक इतिहास में एक काला अध्याय दर्ज हो गया। उन्होने दावा किया कि उस घटना की वजह से भाजपा कार्यकर्ताओं का उत्साह और संकल्प कई गुणा बढ़ गया है। उन्होने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता और अधिक दमखम के साथ चुनावी मैदान में उतरने को तैयार है।

--आईएएनएस

एसटीपी/एएनएम

Share this story