पाकिस्तान, चीन के निशाने पर हैं अफगानिस्तान में आतंकी संगठन टीटीपी, बीएलए, ईटीआईएम

पाकिस्तान, चीन के निशाने पर हैं अफगानिस्तान में आतंकी संगठन टीटीपी, बीएलए, ईटीआईएम
पाकिस्तान, चीन के निशाने पर हैं अफगानिस्तान में आतंकी संगठन टीटीपी, बीएलए, ईटीआईएम नई दिल्ली, 11 सितंबर (आईएएनएस)। पाकिस्तान और चीन ने तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी), बलूच लिबरेशन आर्मी (बीएलए), उइगर और ईटीआईएम को आतंकवादी समूहों के रूप में चिह्न्ति किया है और कहा है कि इन संगठनो को अफगानिस्तान में पैर जमाने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए।

पाकिस्तान और चीन सहित अफगानिस्तान के छह पड़ोसी देशों द्वारा जारी संयुक्त बयान में कहा गया है कि टीटीपी ने पाकिस्तान में कई हमले किए हैं, जबकि बीएलए ने हाल ही में बलूचिस्तान प्रांत में आत्मघाती हमलों की जिम्मेदारी ली है।

पाकिस्तान सरकार की पहल पर पाकिस्तान, चीन, ईरान, ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और उज्बेकिस्तान के विदेश मंत्रियों ने 8 सितंबर को वीडियो लिंक के जरिए अफगानिस्तान के पड़ोसी देशों के बीच अफगान मुद्दे पर बैठक की थी।

जहां टीटीपी और बीएलए को पाकिस्तान में आतंकवादी संगठनों के रूप में प्रतिबंधित किया गया है, वहीं ईटीआईएम चीन के लिए खतरा है।

इन उग्रवादी संगठनों के अलावा, जोंडोल्लाह, जो ईरान में धमकी देने वाला एक उग्रवादी संगठन है, को भी बयान में प्रतिबंधित किया गया है।

उल्लिखित अन्य संगठन आईएसआईएस और अल कायदा हैं, जिन्हें वैश्विक खतरा माना जाता है।

संयुक्त बयान में कहा गया, दोहराया गया है कि आईएसआईएस, अल कायदा, ईटीआईएम, टीटीपी, बीएलए, जोंडोल्लाह और ऐसे अन्य आतंकवादी संगठनों को अफगानिस्तान के क्षेत्र में पैर जमाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चीन को उम्मीद है कि अफगान तालिबान अपने वादों को पूरा करेगा। वह पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) सहित आतंकवादी संगठनों से अलग हो जाएगा और उस पर सख्ती से कार्रवाई करने के लिए प्रभावी कार्रवाई करेगा।

ग्लोबल टाइम्स के साथ एक विशेष साक्षात्कार में झाओ ने तालिबान के प्रवक्ता के बयान के जवाब में कहा कि ईटीआईएम का अफगानिस्तान में कोई स्थान नहीं है।

उन्होंने कहा, हमने ग्लोबल टाइम्स के विशेष साक्षात्कार और ईटीआईएम के विषयों पर अफगान तालिबान की आगे की प्रतिबद्धता पर ध्यान दिया है। राष्ट्रीय सुरक्षा और क्षेत्रीय अखंडता को खतरा है और ये क्षेत्रीय स्थिरता को नुकसान पहुंचाते हैं। ये घातक ट्यूमर हैं जो अफगानिस्तान के लिए परजीवी हैं।

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के गृहमंत्री शेख रशीद ने पहले कहा था कि पाकिस्तान ने तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) मुद्दे पर अफगान तालिबान को अपने साथ लिया है, उम्मीद है कि अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल पाकिस्तान के खिलाफ नहीं किया जाएगा।

मंत्री जिओ पाकिस्तान पर अफगानिस्तान की जेलों से प्रमुख टीटीपी कमांडरों की रिहाई की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया दे रहे थे।

टीटीपी के पूर्व उप प्रमुख मौलाना फकीर मोहम्मद को भी रिहा कर दिया गया, क्योंकि तालिबान ने रविवार को राजधानी पर कब्जा कर लिया था।

उन्होंने कहा, टीटीपी और दाएश के प्रतिबंधित आतंकवादी नूरिस्तान और निघर की पर्वतीय श्रृंखलाओं में मौजूद हैं। हमने टीटीपी मुद्दे पर तालिबान को अपने साथ ले लिया है और उनसे कहा है कि पाकिस्तान अफगानिस्तान के खिलाफ अपनी धरती का इस्तेमाल नहीं होने देगा।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Share this story