प्रभावी विपक्षी पार्टी होगी तृणमूल : मुकुल संगमा

प्रभावी विपक्षी पार्टी होगी तृणमूल : मुकुल संगमा
प्रभावी विपक्षी पार्टी होगी तृणमूल : मुकुल संगमा शिलांग, 25 नवंबर (आईएएनएस)। कांग्रेस के 11 विधायकों के साथ बुधवार रात तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हुए विपक्ष के नेता मुकुल संगमा ने गुरुवार को कहा कि कांग्रेस देश में एक प्रभावी विपक्षी दल के रूप में विफल रही है और टीएमसी व्यवहारिक तौर पर अखिल भारतीय स्तर का एक वैकल्पिक विपक्षी दल होगा।

विश्वसनीय सूत्रों ने कहा कि राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर और उनकी टीम के सदस्य, जो पिछले दो महीनों से शिलांग में डेरा डाले हुए हैं, ने जाहिर तौर पर दलबदल को अंजाम दिया है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और लोकसभा सदस्य विन्सेंट एच. पाला ने शिलांग में कहा कि 12 विधायकों का जाना पार्टी के लिए झटका नहीं है, यह एक नई चुनौती है और कांग्रेस नेता चुनौती का सामना करना जानते हैं।

मेघालय के पूर्व मुख्यमंत्री (2010-2018) संगमा ने कहा कि उनकी क्षमता का कांग्रेस द्वारा पूरी तरह से दोहन नहीं किया गया और वे मेघालय में एक प्रभावी विपक्षी दल नहीं बन पाए। संगमा ने 11 विधायकों के साथ शिलांग में मीडिया से कहा, एक प्रभावी विपक्षी दल बनने और लोगों की इच्छा के अनुसार उनकी सेवा करने के लिए हम तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए हैं। लोगों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता कई मौकों पर केंद्रीय नेतृत्व से मिलने के बावजूद अधूरी रही।

56 वर्षीय नेता ने कहा कि 2018 के विधानसभा चुनावों में (60 सदस्यीय विधानसभा में) 21 सीटें हासिल कर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बन गई थी, लेकिन दुर्भाग्य से वह सरकार नहीं बना सकी। संगमा ने अन्य विधायकों के साथ गुरुवार को विधानसभा अध्यक्ष मेतबाह लिंगदोह से मुलाकात की और मुख्य विपक्षी दल के रूप में पहचाने जाने का दावा किया।

अध्यक्ष ने बाद में कहा कि उन्हें दसवीं अनुसूची के प्रावधानों के अनुसार संगमा और अन्य विधायकों के दावों के बारे में प्रक्रियाओं के साथ जांच करनी होगी। टीएमसी में शामिल होने वाले 12 विधायकों में खासी-जयंतिया हिल्स क्षेत्र के चार विधायक और गारो हिल्स के आठ विधायक शामिल हैं।

12 विधायकों में मुकुल संगमा (सोंगसाक), चार्ल्स पिंग्रोप (नोंगथिम्मई), हिमालय शांगप्लियांग (मौसिनराम), जॉर्ज बी. लिंगदोह (उमरोई), शीतलांग पाले (सुतंगा-सैपुंग), दिक्कांची डी शिरा (महेंद्रगंज), मियानी डी, शिरा (अमपति), जेनिथ संगमा (रंगसाकोना), मार्थन जे. संगमा (मेंदीपाथर), जिमी डी. संगमा (टिक्रिकिला), विनर्सन डी. संगमा (सलमानपारा) और लाजरुस एम. संगमा (चोकपोट) शामिल हैं। कांग्रेस की ताकत - जो 2018 के चुनावों के बाद से विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल थी - अब पांच हो गई है, क्योंकि अन्य विधायक या तो मर चुके हैं या पार्टी छोड़ चुके हैं।

चिकित्सक से राजनेता बने संगमा सितंबर में शिलांग के लोकसभा सदस्य विन्सेंट एच. पाला की राज्य कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति से नाराज थे। कथित तौर पर उन्होंने पिछले महीने कोलकाता में तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी से मुलाकात की, जिससे पूर्वोत्तर राज्य में कांग्रेस के भीतर कथित दरार के बीच अटकलों को बल मिला। संगमा ने इसे शिष्टाचार मुलाकात करार दिया था।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story