फ्रांस के साथ चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

फ्रांस के साथ चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
फ्रांस के साथ चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह नई दिल्ली, 25 नवंबर (आईएएनएस)। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 26 से 28 नवंबर को भारत यात्रा पर आ रहे फ्रांसीसी गणराज्य के सशस्त्र बल मंत्री सेबेस्टियन लेकोर्नू के साथ चौथी भारत-फ्रांस वार्षिक रक्षा वार्ता की सह-अध्यक्षता करेंगे।

यात्रा पर आने वाले फ्रांस के मंत्री विदेश मंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से भी मुलाकात करेंगे। फ्रांस के सशस्त्र बल मंत्री के रूप में सेबेस्टियन लेकोर्नू की यह पहली भारत यात्रा है। उनका कोच्चि में दक्षिणी नौसेना कमान मुख्यालय का दौरा करने और भारत के पहले स्वदेशी विमान वाहक आईएनएस विक्रांत को देखने का भी कार्यक्रम है।

भारत और फ्रांस के बीच घनिष्ठ और मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। वर्ष 1998 में दोनों देशों ने करीबी और बढ़ते द्विपक्षीय संबंध के अलावा अनेक अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर अपने वैचारिक मेलमिलाप के मद्देनजर रणनीतिक साझेदारी की। भारत और फ्रांस रक्षा एवं आयुध क्षेत्र में भागीदार हैं, जो दोनों देशों के बीच अनेक प्रकार के औद्योगिक सहयोग के जरिए भारत की रक्षा क्षेत्र में रणनीतिक स्वायत्तता प्राप्त करने की नीति में योगदान दे रहा है।

इससे पहले 25 नवंबर को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में इंडो-पैसिफिक रीजनल डायलॉग-2022 में कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र न केवल क्षेत्रीय बल्कि व्यापक वैश्विक समुदाय के आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण है। इस क्षेत्र के सदियों पुराने समुद्री मार्गो ने व्यापार को बढ़ाने में मदद की है।

उन्होंने कहा कि वैश्विक समुदाय कई प्लेटफार्मों और एजेंसियों के माध्यम से इस दिशा में काम कर रहा है, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद उनमें सबसे प्रमुख है। अब हमें सामूहिक सुरक्षा के प्रतिमान को साझा हितों और सभी के लिए साझा सुरक्षा के स्तर तक बढ़ाने की आवश्यकता है।

रक्षा मंत्री ने कहा, मेरा ²ढ़ विश्वास है कि यदि सुरक्षा वास्तव में एक सामूहिक उद्यम बन जाए, तो हम एक वैश्विक व्यवस्था बनाने के बारे में सोच सकते हैं, जो हम सभी के लिए फायदेमंद हो। हम बहु-संरेखण के विचार का भी समर्थन करते रहे हैं। हम एक बहु-संरेखित नीति में विश्वास करते हैं, जिसे कई हितधारकों के साथ विविध जुड़ाव के माध्यम से महसूस किया जाता है, ताकि सभी के समृद्ध भविष्य के लिए सभी के विचारों और चिंताओं पर चर्चा की जा सके और उनका समाधान किया जा सके।

राजनाथ सिंह ने कहा कि मजबूत और समृद्ध भारत दूसरों की कीमत पर नहीं बनाया जाएगा, बल्कि भारत यहां अन्य देशों को उनकी पूरी क्षमता का एहसास कराने में मदद करने के लिए है। उन्होंने कहा, हमें एक बनाने का प्रयास करना चाहिए सभी के लिए जीत की स्थिति। हमें संकीर्ण स्वार्थ से निर्देशित नहीं होना चाहिए, यह लंबे समय में फायदेमंद नहीं है।

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

Share this story