बिहार: शराबबंदी को लेकर शादी वाले घरों में छापेमारी को लेकर नीतीश, राबड़ी आमने-सामने

बिहार: शराबबंदी को लेकर शादी वाले घरों में छापेमारी को लेकर नीतीश, राबड़ी आमने-सामने
बिहार: शराबबंदी को लेकर शादी वाले घरों में छापेमारी को लेकर नीतीश, राबड़ी आमने-सामने पटना, 22 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार में एक शादी वाले घर में शराब को लेकर पुलिस द्वारा की गई छापेमारी का वीडियो वायरल होने के बाद सत्ता और विपक्ष आमने-सामने आ गया हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि पुलिस को ऐसी सूचना मिल रही है कि शादी वैगरह में भी शराब पीने का इंतजाम रहता है। जब पुलिस को सूचना मिल रही है, उसके हिसाब से जा रहे हैं। इसमें डर की कोई बात नहीं है। इधर, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने इसे तानाशाही बताते हुए कहा कि यह निजता का हनन है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि शराब पीना गलत काम है। अनैतिक कार्य है।

पत्रकारों ने जब उनसे शादी वाले घरों में छापेमारी के संबंध में पूछा तब उन्होंने कहा, ऐसी शिकायतें पुलिस को मिली हंै कि शादी वैगरह कार्यक्रम में भी शराब पीने का इंतजाम रहता है। जब पुलिस को सूचना मिल रही है, उसके हिसाब से जा रहे हैं। इसमें किसी को चिंता नहीं करनी चाहिए। जब पीते ही नहीं हैं तो क्या दिक्कत है।

उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि किसी को सूचना मिली होगी, पुलिस भेजी गयी होगा। इसकी जानकारी हम लोगों को नहीं है। उन्होंने कहा कि यह जानकारी लेते हैं। उन्होंने कहा कि यह जिम्मेदारी पुलिस और प्रशासन की है। शराब पर रोक लगाना है।

इधर, इस वीडियो वायरल के बाद पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जोरदार निशाना साधा है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने सोमवार को अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल से इसका वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, बिहार पुलिस शराबबंदी के नाम पर बिना महिला पुलिसकर्मियों के दुल्हन के कमरों और कपड़ों की तलाशी ले रही है। यह निजता के अधिकार का उल्लंघन है। बिहार में शराब कैसे व क्यों पहुंच रही है, कौन पहुंचा रहा है? उसकी जांच और खोजबीन नहीं लेकिन उल्टा सनकी सरकार महिलाओं को ही परेशान कर रही है?

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, अब लोग शादी करें या तानाशाह की सनक मिटाएं। बिहार पुलिस, शराब माफिया और सरकार के गठजोड़ से ये खुद शराब मंगवाते, बेचते और बिकवाते हैं। उस पर कार्रवाई ना करने की बजाय आम नागरिकों को परेशान करना, उनकी निजता का उल्लंघन कर उनके निजी जीवन में अतिक्रमण करना कौन सा कानून है? मुख्यमंत्री जवाब दें।

--आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम

Share this story