भाजपा ने फिर से शुरू किया सहयोग कार्यक्रम, जनता की सुनेंगे मंत्री

भाजपा ने फिर से शुरू किया सहयोग कार्यक्रम, जनता की सुनेंगे मंत्री
भाजपा ने फिर से शुरू किया सहयोग कार्यक्रम, जनता की सुनेंगे मंत्री नई दिल्ली, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कोविड-19 के बाद सोमवार को पार्टी कार्यकर्ताओं और आम जनता की मदद के लिए सहयोग कार्यक्रम को फिर से शुरू किया।

भाजपा प्रमुख जे. पी. नड्डा ने सहयोग कार्यक्रम का उद्घाटन किया - एक ऐसी पहल, जिसके तहत हर दिन एक केंद्रीय मंत्री राष्ट्रीय राजधानी स्थित पार्टी मुख्यालय में जनता के साथ बातचीत करेंगे, उनकी शिकायतों को सुनेंगे और उनका निवारण करेंगे।

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने सोमवार को कार्यकर्ताओं और आम जनता की समस्याएं सुनीं। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ए. पी. अब्दुल्लाकुट्टी ने भी मंडाविया से मुलाकात की और स्वास्थ्य मंत्रालय के संबंध में एक प्रतिवेदन (रिप्रेजेंटेशन) दिया।

केंद्रीय कानून मंत्री किरण रिजिजू मंगलवार को जनता और कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुनेंगे। बुधवार को केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण एवं खेल मंत्री अनुराग ठाकुर और गुरुवार को रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव जन शिकायतों को सुनेंगे। शुक्रवार को सार्वजनिक अवकाश होने के कारण कोई भी मंत्री पार्टी मुख्यालय पर शिकायतें सुनने नहीं बैठेगा।

भाजपा के सहयोग कार्यक्रम के समन्वयक नवीन सिन्हा ने आईएएनएस को बताया कि यह कार्यक्रम पिछले सात वर्षों से चल रहा है और कोविड महामारी के कारण इसमें रुकावट आ गई थी। उन्होंने कहा, आज यह एक बार फिर से शुरू हो गया है। लगभग 100 लोग केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से मिले और अपनी समस्याएं रखीं। मंडाविया ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से संबंधित शिकायतों को संबोधित किया और शेष शिकायतों को संबंधित मंत्रालय को भेज दिया।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने महामारी से पहले 20 मार्च, 2020 को आयोजित अंतिम सहयोग कार्यक्रम में भाग लिया था। वर्ष 2014 में केंद्र में सत्ता में आने के बाद आम लोगों और मजदूरों की समस्याओं को सुनने और उसका समाधान करने के लिए यह पहल की गई थी।

योजना के तहत एक मंत्री सोमवार से शुक्रवार तक सप्ताह में पांच दिन पार्टी मुख्यालय में दो घंटे बैठेंगे। अगले सप्ताह के कार्यक्रम के लिए केंद्रीय मंत्री के रोस्टर को हर शुक्रवार को अंतिम रूप देकर पार्टी की वेबसाइट पर डाल दिया जाएगा।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story