भाजपा विधायक का त्रिपुरा में अराजकता का दावा, तृणमूल में शामिल होने की चर्चा

भाजपा विधायक का त्रिपुरा में अराजकता का दावा, तृणमूल में शामिल होने की चर्चा
भाजपा विधायक का त्रिपुरा में अराजकता का दावा, तृणमूल में शामिल होने की चर्चा कोलकाता/अगरतला, 5 अक्टूबर (आईएएनएस)। त्रिपुरा से भाजपा के असंतुष्ट विधायक आशीष दास ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की प्रशंसा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करने के अगले दिन मंगलवार को दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी शासित प्रदेश में राजनीतिक अराजकता व्याप्त है। दास के बयानों से उनके तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने की अटकलों को हवा मिल रही है।

दास ने कोलकाता के कालीघाट मंदिर में अपना सिर मुंडवाकर और यज्ञ करने के बाद कहा कि भाजपा शासित त्रिपुरा में राजनीतिक अराजकता व्याप्त है, जहां लोग राज्य सरकार के कामकाज से नाखुश हैं।

यह बताने से इनकार करते हुए कि क्या वह तृणमूल कांग्रेस में शामिल होंगे, 43 वर्षीय विधायक ने मीडिया से कहा, आपको जल्द ही सब कुछ पता चल जाएगा।

दास बयानों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, त्रिपुरा भाजपा प्रमुख माणिक साहा ने कहा कि वह सब कुछ देख रहे हैं और समय आने पर उचित कदम उठाए जाएंगे।

साहा ने अगरतला में आईएएनएस से कहा, उनकी (दास की) गतिविधियां पिछले कुछ समय से सामान्य नहीं रही हैं। पार्टी उनके द्वारा उठाए गए कदमों की जांच के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी।

उत्तरी त्रिपुरा में सूरमा विधानसभा सीट के विधायक दास ने सोमवार को कोलकाता में मीडिया से बात करते हुए अधिकांश सरकारी संपत्तियों को निजी कंपनियों को बेचने के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना की थी।

उन्होंने कहा था, एक बार मोदी के संदेशों ने देशभर के लोगों के मन में हलचल मचा दी थी। मोदी ने कभी कहा था कि न खाऊंगा, न खाने दूंगा लेकिन अब यह देश में एक लोकप्रिय जुमला (मजाक) बन गया है।

उन्होंने यह भी कहा था कि केंद्र और राज्यों में भाजपा निरंकुश शैली में सरकारें चला रही है।

भवानीपुर उपचुनाव में रिकॉर्ड अंतर से जीत हासिल करने के लिए ममता बनर्जी की प्रशंसा करते हुए भाजपा विधायक ने कहा था कि कई लोग और संगठन ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं और इस पद पर उनका उत्थान बहुत महत्वपूर्ण होगा, क्योंकि वह एक बंगाली हैं।

दास पिछले तीन दिनों से कोलकाता में हैं। उनके तृणमूल कांग्रेस के नेताओं से मिलने की संभावना है।

दास और चार अन्य भाजपा विधायकों - सुदीप रॉय बर्मन, आशीष कुमार साहा, दीबा चंद्र हरंगखॉल और बरबा मोहन त्रिपुरा ने हाल ही में अगरतला में एक बड़ी सभा की थी, जिसमें कई स्थानीय भाजपा नेता और कार्यकर्ता शामिल हुए थे।

संगठन में विद्रोह को रोकने और शासन को सही करने के लिए भाजपा के पूर्वोत्तर क्षेत्रीय संगठन सचिव अजय जामवाल के नेतृत्व में केंद्रीय पार्टी के कई नेता राज्य में पहुंचे हैं।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Share this story