भारतीय ज्ञान प्रणाली को शैक्षिक पाठ्यक्रम में एकीकृत करने का प्रयास

भारतीय ज्ञान प्रणाली को शैक्षिक पाठ्यक्रम में एकीकृत करने का प्रयास
भारतीय ज्ञान प्रणाली को शैक्षिक पाठ्यक्रम में एकीकृत करने का प्रयास नई दिल्ली, 31 जुलाई (आईएएनएस)। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय प्रत्येक स्तर पर छात्रों के सिलेबस को भारत की ज्ञान परंपराओं के साथ जोड़ने का प्रयास कर रहा है। इस विषय पर शिक्षा मंत्रालय का मानना है कि किसी भी व्यक्ति के उत्थान के लिए उसकी जड़ें मजबूत होनी चाहिए और इन जड़ों को बचाने के लिए भारतीय ज्ञान प्रणाली के बारे में जानना होगा। शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक भारतीय ज्ञान प्रणाली सदियों से शिक्षकों के योगदान से विकसित हुई, जिन्होंने छात्रों को मानवीय मूल्यों, ज्ञान और कौशल को विकसित करने में मदद की है।

केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री सुभाष सरकार ने रविवार को नई दिल्ली में भारतीय ज्ञान प्रणाली के विषय में कहा कि प्राचीन भारत में इतिहास, वाद-विवाद की कला, कानून, चिकित्सा आदि जैसे विभिन्न विषयों में शिक्षा ग्रहण करते समय न केवल अनुशासन के बाहरी आयामों पर बल्कि व्यक्तित्व के आंतरिक आयामों को समृद्ध करने पर भी जोर दिया जाता था।

उन्होंने आगे कहा कि यह अच्छी तरह से प्रलेखित है कि वेद, वेदांग, उपनिषद, स्मृति, शास्त्र, रामायण और महाभारत के महाकाव्य, विभिन्न दार्शनिक विद्यालयों में ग्रंथ, और योग, आयुर्वेद और कई अन्य व्यावहारिक विषयों जैसे प्राचीन भारत में अच्छी तरह से विकसित थे। उन्होंने ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन एआईसीटीई को बधाई दी जिन्होंने वर्तमान सामाजिक समाधानों को संबोधित करने के लिए अंत विषय अनुसंधान को बढ़ावा दिया है। साथ ही भारतीय ज्ञान प्रणाली (आईकेएस) को शैक्षिक पाठ्यक्रम में एकीकृत करने और आईकेएस ज्ञान के प्रसार को सक्षम करने के लिए कार्य किया है।

संस्कृति मंत्रालय के सहयोग से आईकेएस डिवीजन और एआईसीटीई द्वारा भव्य कार्यक्रम 29 जुलाई को एनईपी 2020 के दो महत्वपूर्ण वर्षों के सफल समापन के उपलक्ष्य में शुरू हुआ। 31 जुलाई तक चले इस आयोजन का फोकस एनईपी 2020 पर विशेषज्ञों के साथ गहराई से जुड़ना और इसके बारे में सीखना था। आईकेएस डिवीजन ने प्रौद्योगिकी प्रदर्शन के लिए आईकेएस-एमआईसी कार्यक्रम, स्थानीय कला को बढ़ावा देने और समर्थन करने के लिए 750 से अधिक स्कूलों में कलाशाला पहल की शुरूआत और स्कूलों में 75 भारतीय खेलों की शुरूआत जैसी प्रमुख पहलों की घोषणा की।

--आईएएनएस

जीसीबी/आरएचए

Share this story