भारत और डेनमार्क ने 4 समझौतों पर हस्ताक्षर किए, हरित रणनीतिक साझेदारी पर बढ़ाएंगे सहयोग

भारत और डेनमार्क ने 4 समझौतों पर हस्ताक्षर किए, हरित रणनीतिक साझेदारी पर बढ़ाएंगे सहयोग
भारत और डेनमार्क ने 4 समझौतों पर हस्ताक्षर किए, हरित रणनीतिक साझेदारी पर बढ़ाएंगे सहयोग नई दिल्ली, 9 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारत और डेनमार्क ने शनिवार को चार समझौतों पर हस्ताक्षर किए और हरित रणनीतिक साझेदारी को लेकर सहयोग बढ़ाने का फैसला किया।

शनिवार को डेनमार्क की अपनी समकक्ष मेटे फ्रेडरिकसेन के साथ द्विपक्षीय वार्ता के बाद अपने बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछले साल दोनों देशों ने हरित रणनीतिक साझेदारी स्थापित करने के लिए एक ऐतिहासिक कदम उठाया था, जो पर्यावरण के प्रति हमारे दूरगामी ²ष्टिकोण का एक बेहतरीन उदाहरण रहा है।

उन्होंने कहा, यह साझेदारी इस बात का उदाहरण है कि कैसे सामूहिक प्रयास और प्रौद्योगिकी के माध्यम से, हम पर्यावरण को संरक्षित करते हुए हरित विकास के लिए काम कर सकते हैं। आज हमने इस साझेदारी के तहत हुई प्रगति की भी समीक्षा की और आने वाले समय में जलवायु परिवर्तन पर सहयोग बढ़ाने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।

यह उल्लेख करते हुए कि डेनमार्क अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन का सदस्य बन गया है, उन्होंने आगे कहा कि यह भारत-डेनमार्क साझेदारी में एक नया आयाम है।

उन्होंने यह भी कहा कि दोनों देशों ने आज सहयोग के दायरे को बढ़ाने, इसमें नए आयाम जोड़ने का फैसला लिया और स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक नई साझेदारी की शुरूआत की।

पीएम मोदी ने आगे कहा, भारत में कृषि उत्पादकता और किसानों की आय बढ़ाने के लिए हमने कृषि संबंधी प्रौद्योगिकी में भी सहयोग करने का निर्णय लिया है। इसके तहत खाद्य सुरक्षा, कोल्ड चेन, खाद्य प्रसंस्करण, उर्वरक, मत्स्य पालन, एक्वाकल्चर आदि अनेक क्षेत्रों की प्रौद्योगिकियों पर काम किया जाएगा। हम हम स्मार्ट वाटर रिसोर्स मैनेजमेंट, वेस्ट टू बेस्ट और कुशल आपूर्ति श्रृंखला जैसे क्षेत्रों में भी सहयोग करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि उन्होंने कई क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर अपनी डेनिश समकक्ष के साथ गहन और उपयोगी चर्चा की और विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत से प्राप्त होने वाले मजबूत समर्थन के लिए डेनमार्क का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी लोकतांत्रिक मूल्यों वाले, नियम आधारित व्यवस्था में विश्वास रखने वाले हमारे दोनों देश एक दूसरे के साथ समान मजबूत सहयोग और समन्वय के साथ काम करते रहेंगे।

मोदी ने अगले भारत-नॉर्डिक शिखर सम्मेलन की मेजबानी करने और उन्हें डेनमार्क की यात्रा के लिए आमंत्रित करने के अवसर के लिए भी आभार व्यक्त किया।

डेनमार्क की यात्रा के लिए उनके निमंत्रण को स्वीकार करने के लिए पीएम मोदी को धन्यवाद देते हुए, डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिकसेन ने कहा कि वह दस लाख से अधिक घरों और नवीकरणीय ऊर्जा के लिए स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के लिए एक महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित करने के लिए दुनिया के बाकी हिस्सों के लिए एक प्रेरणा हैं।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story