भारत बंद के आह्वान के मद्देनजर आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में हाई अलर्ट

भारत बंद के आह्वान के मद्देनजर आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में हाई अलर्ट
भारत बंद के आह्वान के मद्देनजर आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में हाई अलर्ट अमरावती/हैदराबाद, 20 जून (आईएएनएस)। केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में कुछ संगठनों ने भारत बंद का आह्वान किया, जिसके मद्देनजर आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में पुलिस और रेलवे अधिकारी हाई अलर्ट पर हैं।

सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर 17 जून को हुई हिंसा को ध्यान में रखते हुए रेलवे पुलिस सभी प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर कड़ी निगरानी रखे हुए है।

विरोध प्रदर्शन के किसी भी प्रयास को रोकने के लिए स्टेशनों के आसपास अतिरिक्त बलों को तैनात किया गया है। सुरक्षाकर्मी टिकट दिखाने के बाद ही यात्रियों को स्टेशन के अंदर जाने की अनुमति दे रहे हैं।

हैदराबाद के सिकंदराबाद, नामपल्ली, काचेगुआ स्टेशनों, काजीपेट, जंगों, विजयवाड़ा, गुंटूर, विशाखापत्तनम, तिरुपति और अन्य प्रमुख स्टेशनों पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

पुलिस ने स्पष्ट किया है कि भारत बंद या विरोध प्रदर्शन की कोई अनुमति नहीं है। उन्होंने धरना प्रदर्शन में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी।

विजयवाड़ा के पुलिस आयुक्त कांति राणा टाटा, एलुरु के एसपी राहुल देव शर्मा और अन्य पुलिस अधिकारियों ने छात्रों और युवाओं को चेतावनी दी है कि यदि वे किसी भी अवैध गतिविधि में शामिल होते हैं और उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाता है, तो वह भविष्य में सरकारी नौकरी पाने का अवसर खो देंगे। उन्होंने कहा कि अगर मामले दर्ज होते हैं तो उन्हें पासपोर्ट जारी नहीं किया जाएगा।

जब से सिकंदराबाद स्टेशन पर हिंसा हुई है, दोनों राज्यों के अन्य प्रमुख स्टेशनों पर अधिकारी हाई अलर्ट पर हैं। 18 जून को एहतियात के तौर पर विशाखापत्तनम रेलवे स्टेशन को कुछ घंटों के लिए बंद कर दिया गया था।

खुफिया रिपोर्ट में कहा गया कि सेना की नौकरी के इच्छुक लोग विरोध-प्रदर्शन का सहारा ले सकते हैं। आंध्र प्रदेश रेलवे पुलिस ने सिकंदराबाद में हिंसा भड़काने में कुछ कोचिंग संस्थानों की भूमिका की पुष्टि की है, एक संस्थान के मालिक को हिरासत में लिया गया है।

सिकंदराबाद स्टेशन पर हिंसा की जांच कर रही रेलवे पुलिस ने पाया कि कोचिंग संस्थानों के मालिकों ने इन युवाओं को 15 जून को बिहार में हुए विरोध प्रदर्शन की तर्ज पर गुमराह किया ताकि वे केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित कर सकें।

--आईएएनएस

पीके/एएनएम

Share this story