मध्यप्रदेश में उपचुनाव से पहले ही कांग्रेस में अंर्तकलह तेज, अरुण यादव ने मोर्चा खोला

मध्यप्रदेश में उपचुनाव से पहले ही कांग्रेस में अंर्तकलह तेज, अरुण यादव ने मोर्चा खोला
मध्यप्रदेश में उपचुनाव से पहले ही कांग्रेस में अंर्तकलह तेज, अरुण यादव ने मोर्चा खोला भोपाल, 7 अक्टूबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश की खंडवा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने से इंकार करने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री अरूण यादव ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने लखीमपुर खीरी की घटना का जिक्र करते हुए सवाल किया है कि जो लोग गांधी परिवार के नेतृत्व पर सवाल उठाते हैं, वे इस समय कहां हैं।

ज्ञात हो कि बीते दिनों लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्या को लेकर महासचिव प्रियंका गांधी और राहुल गांधी ने खुलकर अपना विरोध दर्ज कराया और पीड़ितों के परिवारों से मिलने पहुंचे। इस दौरान कांग्रेस के कथित जी-23 समूह से जुड़े नेताओं के मैदान में नजर न आने पर पूर्व मंत्री यादव ने तीखी टिप्पणी की है। इसके साथ ही उन्होंने साफ कर दिया है कि वे राहुल और प्रियंका के हर संघर्ष मंे साथ हैं।

यादव ने ट्वीट कर कहा, जो लोग बोलते हैं गांधी परिवार को ही कांग्रेस का नेतृत्व क्यों करना चाहिए, वो सब लोग आंखे खोलकर देख लें। जब भी संघर्ष की बारी आती है तब राहुल गांधी व प्रियंका गांधी ही सड़कों पर सबसे आगे दिखाई देते हैं।

अरूण यादव की गिनती राहुल गांधी के करीबी नेताओं में होती है। उन्होंने आगे कहा, प्रियंका गांधी शहीद किसानों के आरोपियों को सजा दिलाने के लिए तीन दिन तक उत्तरप्रदेश सरकार की कैद में रहीं और जिस तरह से राहुल - प्रियंका ने हाथरस - लखीमपुर खीरी की लड़ाई लड़ी है, यह उन सबके लिए करारा तमाचा है जो बोलते है कि गांधी परिवार ही कांग्रेस का नेतृत्व क्यों करे।

यादव ने आगे कहा, ये किसानों के मान सम्मान कि लिए युद्ध था तो जिन्हें राहुल -प्रियंका के नेतृत्व से दिक्कत थी वो इस रणभूमि में कहां हैं।

खंडवा से चुनाव लड़ने से इंकार कर चर्चाओं के केंद्र में आए अरूण यादव ने अब दिल्ली से लेकर राज्य की राजनीति में दिग्गज नेताओं की सूची में शामिल कर नेताओं पर एक साथ हमला बोला है। जानकारों की मानें तो यादव को पार्टी के ही कुछ बड़े नेताओं ने साजिश रचकर चुनाव लड़ने से रोकने की कोशिश की तो खुद यादव ने ही चुनाव न लड़ने का ऐलान कर उन नेताओं को सियासी तौर पर करारा जवाब दिया है। साथ ही अब उन्होंने जो बयान दिया है उसका आशय साफ है कि अब वे पार्टी के भीतर ही आरपार की लड़ाई लड़ने के मूड में आ गए हैं।

--आईएएनएस

एसएनपी/एएनएम

Share this story