मप्र में आदिवासियों को महुआ की हेरिटेज शराब बनाने का अधिकार देगी सरकार

मप्र में आदिवासियों को महुआ की हेरिटेज शराब बनाने का अधिकार देगी सरकार
मप्र में आदिवासियों को महुआ की हेरिटेज शराब बनाने का अधिकार देगी सरकार मंडला , 22 नवंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में मनाए जा रहे जनजातीय गौरव सप्ताह के समापन मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनजातीय वर्ग के जीवन में बदलाव लाने का संकल्प लिया, साथ ही उन्हें महुआ से हेरिटेज शराब बनाने का अधिकार देने का ऐलान किया।

मंडला के रामनगर में आयोजित जनजातीय गौरव सप्ताह के समापन कार्यक्रम में छह सौ करोड़ से जयादा के निर्माण व विकास कार्यो का लोकापर्ण व शिलान्यास करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सरकार नई आबकारी नीति बना रही है, जिसमें जनजातीय वर्ग पारंपरिक रूप से महुआ से शराब बना पाएगा। इस हेरिटेज शराब को बेचने का अधिकार भी जनजातियों को दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रतिवर्ष 15 नवम्बर को पूरे देश में जनजातीय गौरव दिवस मनाने तथा एक सप्ताह तक जनजातीय गौरव के विभिन्न कार्यक्रम देश के कोने-कोने में आयोजित किये जाने का निर्णय लिया और भोपाल से इस अभियान की शुरूआत की। मंडला में जनजातीय गौरव दिवस सप्ताह का समापन हो रहा है। यह आयोजन जनजातियों की जिंदगी बदलने का अभियान है। जनजातियों का आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक सशक्तिकरण किया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातियों के स्वतंत्रता संग्राम में योगदान एवं उनके गौरव को दुनिया में फिर स्थापित किया जाएगा। 52 गढ़ों वाले गोंडवाना राज्य का गौरवशाली इतिहास रहा है। गोंड राजा प्रजापालक एवं कुशल प्रबंधक थे। उनके श्रेष्ठ जल-प्रबंधन को आज भी याद किया जाता है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातीय वर्ग को सामुदायिक वन प्रबंधन का अधिकार दिया जाएगा, वे जंगल लगाएंगे तथा उसकी लकड़ी, फल पर उनका ही अधिकार होगा। मुख्यमंत्री आवासीय भू-अधिकार योजना में उन्हें आवासीय भूमि अधिकार-पत्र प्रदान किये जायेंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातियों के विरूद्ध दायर छोटे-छोटे और झूठे मुकदमे वापस लिये जाएंगे। जनजातीय समुदाय को प्रधानमंत्री आवास बनाने के लिये रेत मुफ्त में प्रदान की जाएगी। अगले वर्श से तेंदूपत्ता बेचने का अधिकार जनजातियों को दिए जाने पर विचार किया जा रहा है। यह कार्य वन समितियों के माध्यम से किया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मंडला में मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा, जिसका नाम राजा हृदय शाह मेडिकल कॉलेज होगा। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, मानपुर का नाम टंट्या भील स्वास्थ्य केन्द्र होगा। पाताल पानी स्थित टंट्या भील मंदिर का जीर्णोद्धार किया जाएगा। पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम टंट्या भील रेलवे स्टेशन होगा। इंदौर स्थित भंवर कुआं चौराहे का नाम टंट्या भील चैराहा होगा। इसी प्रकार इंदौर में एमआर-10 बस स्टैण्ड का नाम टंट्या भील बस स्टैण्ड किया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने बैगा योजना का मंच से डिजिटल शुभारंभ किया। योजना में बैगा समुदाय के सभी व्यक्तियों का घर-घर सर्वे कर उन्हें शासन की सभी संबंधित योजनाओं का लाभ दिया जाएगा। इस मौके पर बैगा संस्कृति पर प्रकाशित पुस्तक मैं बैगा हूं का विमोचन भी किया।

--आईएएनएस

एसएनपी/एएनएम

Share this story