मूसेवाला हत्याकांड : बंदूकों से काम नहीं चलता तो निशानेबाज हथगोले का इस्तेमाल करते

मूसेवाला हत्याकांड : बंदूकों से काम नहीं चलता तो निशानेबाज हथगोले का इस्तेमाल करते
मूसेवाला हत्याकांड : बंदूकों से काम नहीं चलता तो निशानेबाज हथगोले का इस्तेमाल करते नई दिल्ली, 21 जून (आईएएनएस)। सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में एक चौंकाने वाला खुलासा करते हुए दिल्ली पुलिस ने सोमवार को कहा कि अगर बंदूकें काम नहीं करतीं तो हमलावरों ने गायक को मारने के लिए हथगोले का इस्तेमाल किया होता।

विशेष पुलिस आयुक्त (विशेष प्रकोष्ठ), एच.एस. धालीवाल ने मीडिया ब्रीफिंग में कहा।

स्पेशल सेल ने यह खुलासा दो मुख्य निशानेबाजों और उनके सहायक को गिरफ्तार करने के बाद किया, जो 29 मई को सिद्धू मूसेवाला के नाम से मशहूर पंजाबी गायक शुभदीप सिंह की हत्या में शामिल थे।

हरियाणा के सोनीपत निवासी प्रियव्रत उर्फ फौजी (26) और कशिश उर्फ कुलदीप (24) को रविवार को गुजरात के कच्छ जिले से गिरफ्तार किया गया।

इस बीच, मॉड्यूल प्रमुख प्रियव्रत के बताने पर पुलिस को हरियाणा के एक गांव में भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद छिपा हुआ मिला।

धालीवाल ने कहा, हमने एक अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर के साथ आठ ग्रेनेड बरामद किए हैं। उच्च विस्फोटक ग्रेनेड ग्रेनेड लॉन्चर के साथ उपयोग के लिए डिजाइन किए गए हैं। ग्रेनेड लॉन्चर को एके-47 असॉल्ट राइफल्स पर लगाया जा सकता है।

पुलिस को ग्रेनेड के अलावा नौ इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, 20 राउंड के साथ एक असॉल्ट राइफल, 30 बोर की तीन अत्याधुनिक स्टार पिस्टल, 7.62 एमएम स्टार पिस्टल के 36 राउंड और एके सीरीज असॉल्ट राइफल के कुछ हिस्से भी मिले हैं।

लोकप्रिय गायक मूसेवाला (28) की 29 मई को उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जब वह पंजाब के मनसा जिले में अपने गांव के पास एक कार में यात्रा कर रहे थे। मनसा जिले के जवाहरके गांव में आठ हमलावरों ने उन पर 30 से अधिक गोलियां चलाई थीं।

सिद्धू महिंद्रा थार एसयूवी की ड्राइविंग सीट पर खून से लथपथ पाए गए, जबकि कार में सवार दो अन्य लोगों - गुरविंदर सिंह और गुरप्रीत सिंह को भी गोली लगी।

--आईएएनएस

एसजीके

Share this story