येलहंका में बारिश प्रभावित घरों के लिए मुआवजा जल्द : कर्नाटक के सीएम

येलहंका में बारिश प्रभावित घरों के लिए मुआवजा जल्द : कर्नाटक के सीएम
येलहंका में बारिश प्रभावित घरों के लिए मुआवजा जल्द : कर्नाटक के सीएम बेंगलुरू, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने मंगलवार को कहा कि बेंगलुरु के उपनगर येलहंका में आवास परिसर में पानी घुसने से प्रभावित घरों को 10 हजार रुपये, क्षतिग्रस्त हुए लोगों को एक लाख रुपये और लगातार बारिश से पूरी तरह तबाह हुए घरों को पांच लाख रुपये का मुआवजा जल्द ही दिया जाएगा।

येलहंका में एक जलमग्न अपार्टमेंट में अपनी यात्रा के बाद मीडियाकर्मियों से बात करते हुए बोम्मई ने कहा, मैंने उन लोगों को तत्काल 10,000 रुपये जारी करने का आदेश दिया है, जिन्हें अपने घरों में पानी घुसने के कारण नुकसान उठाना पड़ा था। यालाहंका क्षेत्र में लगभग 400 घर प्रभावित हुए हैं। लगभग 10 किमी मुख्य सड़कें और 20 किमी आंतरिक सड़कें भी क्षतिग्रस्त हो गई हैं। मैंने संबंधित अधिकारियों को बुनियादी ढांचे के नुकसान का अनुमान तैयार करने का निर्देश दिया है। मरम्मत कार्यो को शुरू करने के लिए धन तुरंत जारी किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने बाढ़ के लिए राजकालुवे (तूफान के पानी की नालियां) के बहाव को रोकने के लिए बनाई गई बाधाओं को जिम्मेदार ठहराया।

50 किमी राजकालुवे को चौड़ा करने का काम शुरू किया गया है, जबकि 50 किमी और चौड़ा करने का निर्णय लिया गया है। राजकालुवे की चौड़ाई को वर्तमान 8-10 फुट से बढ़ाकर 30 फुट करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि राजकालुवे में बाढ़ का पानी सुचारु रूप से प्रवाहित करने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश ने येलहंका झील भर दी है, जो उफान पर है। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को जिस केंद्रीय विहार अपार्टमेंट परिसर का दौरा किया था, सहित आसपास के इलाकों में बाढ़ का पानी भर गया था।

अपार्टमेंट का बेसमेंट 4-5 फीट तक पानी में डूबा है। बोम्मई ने कहा कि स्थानीय विधायक विश्वनाथ ने इमारत में फंसे लोगों को भोजन, पानी और अन्य जरूरी सामान मुहैया कराया है। अपार्टमेंट परिसर में कुल 603 लोग रहते हैं।

येलहंका झील 11 अपस्ट्रीम झीलों से जुड़ी हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारी बारिश के कारण सभी झीलों का पानी येलहंका झील में आ गया है, जिसमें दो संकरे राजकालुव हैं, जो कई जगहों पर जाम हो गए हैं या अतिक्रमण कर लिया गया है।

--आईएएनएस

एसजीके

Share this story