राज्यों से कहा गया, भारत के 100 करोड़ वैक्स डोज लक्ष्य पाने की दिशा में काम करें

राज्यों से कहा गया, भारत के 100 करोड़ वैक्स डोज लक्ष्य पाने की दिशा में काम करें
राज्यों से कहा गया, भारत के 100 करोड़ वैक्स डोज लक्ष्य पाने की दिशा में काम करें नई दिल्ली, 9 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने शनिवार को राज्यों से कहा कि वे देश के 100 करोड़ के कोविड-19 वैक्सीन खुराक लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में काम करने पर ध्यान दें। देश में अब तक 94 करोड़ वैक्सीन खुराक बांटे चुके जा चुके हैं।

समीक्षा बैठक के दौरान मंत्री ने प्रत्येक राज्य को अपना लक्ष्य बढ़ाने का आह्वान किया, ताकि अगले कुछ दिनों में 100 करोड़ के निशान तक पहुंचने के लिए अंतिम 6 करोड़ खुराक देने का लक्ष्य हासिल किया जा सके।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि अगर देश में कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार त्योहार नहीं मनाए जाते हैं, तो यह कोविड-19 की रोकथाम को पटरी से उतार सकता है।

मंडाविया ने कुछ राज्यों के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के प्रमुख सचिवों और मिशन निदेशकों के साथ बातचीत करते हुए वहां कोविड टीकाकरण प्रगति की समीक्षा की और आने वाले त्योहारों के मद्देनजर सुरक्षित उत्सव की सलाह दी। उन्होंने कहा, दोतरफा समाधान है कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना और टीकाकरण में तेजी लाना।

उन्होंने उन प्रयोगों के परिणामों का हवाला दिया, जिनमें पहली खुराक प्राप्त करने वाले 96 प्रतिशत लोगों में गंभीर कोविड-19 नहीं पनपा। मंत्री ने आगे बताया कि यह संख्या उन लोगों के लिए लगभग 98 प्रतिशत तक बढ़ जाती है, जिन्होंने टीके की दोनों खुराक ली हैं।

यह देखते हुए कि राज्यों के पास 8 करोड़ से अधिक खुराक उपलब्ध हैं, मंडाविया ने टीकाकरण की गति में तेजी लाने में राज्यों द्वारा सामना की जाने वाली विशिष्ट बाधाओं के बारे में भी पूछताछ की।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने 21 सितंबर से आने वाले त्योहारों के मद्देनजर संशोधित दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जिसमें कहा गया है कि कंटेनमेंट जोन के रूप में पहचाने जाने वाले क्षेत्रों में और संक्रमण के 5 प्रतिशत से अधिक मामलों वाले जिलों में किसी भी सामूहिक सभा की अनुमति नहीं है।

5 प्रतिशत और उससे कम संक्रमण दर वाले जिलों में स्थानीय संदर्भ के अनुसार अग्रिम अनुमति और सीमित लोगों के साथ सभा की अनुमति दी जाएगी। दिशानिर्देशों के अनुसार, सभी राज्यों को किसी भी प्रारंभिक चेतावनी संकेतों की पहचान करने के लिए प्रतिदिन सभी जिलों में केस ट्रैजेक्टोरियों की बारीकी से निगरानी करनी होगी।

स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों के स्वास्थ्य प्रशासकों से कोविड-19 के प्रकोप को रोकने के लिए उत्सव के दौरान कोविड के उचित व्यवहार के पालन के संबंध में सख्त होने का आग्रह किया।

राज्यों के साथ बैठक में उन्हें प्रदान किए गए आपातकालीन कोविड प्रतिक्रिया पैकेज (ईसीआरपी)2 वित्तीय संसाधनों के त्वरित उपयोग पर भी चर्चा हुई।

बैठक में आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल ने भाग लिया।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Share this story