राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान गतिशक्ति विश्वविद्यालय में परिवर्तित

राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान गतिशक्ति विश्वविद्यालय में परिवर्तित
राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान गतिशक्ति विश्वविद्यालय में परिवर्तित नई दिल्ली, 3 अगस्त (आईएएनएस)। लोकसभा ने बुधवार को केंद्रीय विश्वविद्यालय (संशोधन)विधेयक 2022 पारित किया। राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान (एनआरटीआई), एक डीम्ड टू बी विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय में बदलने के लिए यह विधेयक पारित किया गया है। इसके माध्यम से पहले से मौजूद राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान को गतिशक्ति विश्वविद्यालय में परिवर्तित किया जा रहा है। लोकसभा में पारित किए गए इस विधेयक के माध्यम से गति शक्ति विश्वविद्यालय नामक एक विश्व स्तरीय, बहु-अनुशासनात्मक, बहु-आयामी भविष्यवादी संस्थान की कल्पना की गई है।

लोकसभा में इस बिल के विषय में बताते हुए केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि परिवहन क्षेत्र में हो रहे परिवर्तनों के लिए एक ज्ञान भंडार बनाने, अनुसंधान करने, सर्वोत्तम प्रथाओं, कौशल विकास की सुविधा, क्षमता निर्माण पर काम करने और परिवहन क्षेत्रों के विकास को सुविधाजनक बनाने के लिए एक संस्थान बनाने की आवश्यकता है। उन्होंने यह भी कहा कि भविष्य के छात्रों को बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में सफल होने के लिए एसटीईएम के अलावा पर्यावरण, वाणिज्य और सामाजिक विज्ञान के बारे में सीखना होगा।

इस प्रकार गति शक्ति विश्वविद्यालय नामक एक विश्व स्तरीय, बहु-अनुशासनात्मक, बहु-आयामी भविष्यवादी संस्थान की कल्पना की गई है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विजन के अनुरूप अधिक से अधिक युवाओं को शिक्षा और स्किलिंग इकोसिस्टम की मुख्यधारा में लाने की आवश्यकता के बारे में भी बताया। उन्होंने लोकसभा में कहा कि हमारा प्रयास नौकरी चाहने वालों की ही नहीं, बल्कि नौकरी देने वालों की एक पीढ़ी तैयार करना है। प्रधान ने यह भी कहा कि भारत में एक नई कार्य संस्कृति विकसित हो रही है जिसमें जो वादा किया जाएगा, उसे पूरा किया जाएगा। गति शक्ति उस कार्य संस्कृति का एक और उदाहरण है।

इस मौके पर केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने लोकसभा में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा भविष्य के लिए एक विजन के साथ काम करते हैं और उनके नेतृत्व में चौथी औद्योगिक क्रांति को अपनाने के लिए तैयार भविष्य के लिए तैयार कार्यबल और 21वीं सदी की चुनौतियों को तैयार किया जा रहा है।

उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हो रहे तकनीकी विकास के बारे में भी बताया और कहा कि 2022 तक भारत फ्रंटियर टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में आत्मानिर्भर होगा। प्रधान ने सड़क, रेलवे, नौवहन, विमानन आदि सहित बुनियादी ढांचे और परिवहन क्षेत्रों में हो रहे परिवर्तनों के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि परिवहन क्षेत्रों का विकास, छोटे शहरों में देश भर में हवाई अड्डों का निर्माण और हवाई यातायात में वृद्धि भारत की आकांक्षाओं को दर्शाती है।

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

Share this story