लखीमपुर पहुंचे राहुल और प्रियंका, बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात

लखीमपुर पहुंचे राहुल और प्रियंका, बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात
लखीमपुर पहुंचे राहुल और प्रियंका, बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात लखनऊ, 6 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में रविवार को हुई हिंसा के बाद घमासान मचा है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी व प्रियंका वाड्रा का काफिला लखीमपुर खीरी शहर पहुंच गया है। यहां से निघासन के लिए निकल चुके हैं। उनके साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी भी हैं। इसके मद्देनजर जिला प्रशासन ने भारी सुरक्षा बल तैनात किया है।

राहुल गांधी और प्रियंका लखीमपुर खीरी पहुंच गए, कुछ देर में मृतक किसानों के परिजनों से मिलेंगे। उधर मुरादाबाद में लखीमपुर जा रहे सचिन पायलट और प्रमोद कृष्णम को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

इससे पहले राहुल गांधी के काफिले में चल रहे अन्य वाहनों को इटौंजा टोल प्लाजा पर रोका गया। केवल उन्हीं की कार को गुजरने की अनुमति दी गई।

इससे भी पहले, लखनऊ एयरपोर्ट पर कुछ देर धरने पर बैठने के बाद राहुल एयरपोर्ट टर्मिनल से बाहर निकले। प्रशासन ने उनकी मांग को मान लिया है। उनके साथ पंजाब और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री व कांग्रेस के नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला भी बाहर निकले। वह अपनी गाड़ी से सीतापुर के लिए रवाना हो गए हैं। सीतापुर से प्रियंका गांधी को साथ लेकर वह लखीमपुर-खीरी जाएंगे।

राहुल दुबग्गा, आइआइएम रोड होते हुए सीतापुर पहुंचे। राहुल गांधी के साथ लखनऊ एयरपोर्ट पर रणदीप सिंह सुरजेवाला भी मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की मंशा साफ है। वह राहुल गांधी को यहां से गिरफ्तार कर ले जाना चाहती है। राहुल गांधी को आप बेड़ियों में बांधकर नहीं ले जा सकते।

राहुल गांधी ने कहा कि सुरक्षाकर्मी मुझे एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलने दे रहे हैं। निर्दोष किसानों को गाड़ियों से रौंदने वाले अपराधी आजाद घूम रहे हैं। उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है और हम लोगों को लखीमपुर खीरी जाने से रोका जा रहा है। क्या यही है उत्तर प्रदेश सरकार की अनुमति।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र और पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू गुरुवार को पीड़ित परिवारों से मिलने लखीमपुर खीरी जाएंगे।

भाकियू नेता राकेश टिकैत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, मैं पिछले दो दिन से कह रहा हूं कि राजनेताओं को यहां आने दिया जाए। अगर वे आते हैं तो पीड़ितों को कुछ आर्थिक सहायता देंगे।

लखीमपुर पहुंचे आप नेता व राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि सरकार का रवैया ठीक नहीं रहा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 55 घंटे के बाद महसूस हुआ कि अब जाने देना चाहिए, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि आखिर अभी तक क्यों नहीं मंत्री और उनके पुत्र की गिरफ्तारी की गई है। इससे पहले आप के विधायकों का एक प्रतिनिधिमंडल पहुंचा।

--आईएएनएस

विकेटी/एसजीके

Share this story