वर्क फ्रॉम होम की फर्जी योजना का भंडाफोड़, 2 गिरफ्तार

वर्क फ्रॉम होम की फर्जी योजना का भंडाफोड़, 2 गिरफ्तार
नई दिल्ली, 19 मार्च (आईएएनएस)। दिल्ली पुलिस ने रविवार को कहा कि उसने घर से काम करने की फर्जी योजना का भंडाफोड़ किया है और कई भोले-भाले लोगों से ठगी करने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

बाहरी दिल्ली के डीसीपी हरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि आरोपियों की पहचान अंकित राठी और सुधीर कुमार के रूप में हुई है।

सिंह ने कहा, धोखाधड़ी करने वालों ने निवेश की गई राशि पर 30 प्रतिशत के आकर्षक रिटर्न का झांसा दिया। बैंक द्वारा फ्रीज किए जाने से पहले एक दिन में 64 लाख रुपये बैंक खाते में जमा किए गए।

पुलिस ने कहा कि हरिन बंसल नाम के एक व्यक्ति ने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई थी जिसमें आरोप लगाया गया था कि आरोपियों ने उससे 9,32,000 रुपये की ठगी की है।

बंसल ने दावा किया कि वह इंस्टाग्राम पर जब सर्फि ग कर रहे थे, तब उन्हें एक पोस्ट मिली, जिसमें कहा गया था कि घर से काम करके रोजाना मोटी कमाई करें। उसने पोस्ट पर क्लिक किया और उसे एक व्हाट्सएप नंबर पर ले जाया गया।

पुलिस ने कहा, फिर उसे एक लिंक के माध्यम से एक वेबसाइट पर पंजीकरण करने के लिए कहा गया था जो उसे दिया गया था। जालसाजों ने कहा कि उसे वेबसाइट पर दिए गए कार्यो को पूरा करना है, जो उसका काम था। उन्होंने उससे कहा कि उसे दिए गए कार्यो को पूरा करने के बाद मूल राशि के साथ कमीशन भी मिलेगा। उसने शुरू में एक छोटी राशि जमा की और अपने बैंक खाते से अर्जित कमीशन के साथ अपना पैसा निकालने में सक्षम रहा। बाद में जब उसने बड़ी राशि का निवेश किया, तो उसे पैसा वापस नहीं मिला।

पुलिस के मुताबिक, बंसल ने कहा कि सरकारी कर के बहाने उससे पैसे मांगे गए थे।

पुलिस ने तब पाया कि पैसे नौ अलग-अलग बैंक खातों में स्थानांतरित किए जा रहे थे, जिनमें से एक बागपत निवासी अंकित राठी का था। तुरंत एक पुलिस टीम वहां भेजी गई, जिसने पाया कि राठी हरिद्वार भाग गया है। बाद में उसे हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने कहा, राठी ने हमें बताया कि उसके दोस्त सुधीर कुमार ने उससे कहा था कि बैंक खाते खोलकर और उन्हें किसी अन्य व्यक्ति को सौंपकर प्रतिदिन 10,000 रुपये कमाए जा सकते हैं, जो ऑनलाइन सट्टेबाजी की वेबसाइट संचालित करेगा। सुधीर को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

सुधीर ने खुलासा किया कि एक बार जब वह फेसबुक पर सर्फि ग कर रहे थे तो उन्होंने एक पोस्ट देखा, जिसमें किसी और को अपना अकाउंट एक्सेस करने की अनुमति देकर पैसे कमाने के बारे में बताया गया था। उसे बताया गया कि वे ऑनलाइन सट्टेबाजी वेबसाइटों को बैंक खाते उपलब्ध कराते हैं।

पुलिस ने कहा, वे अपने पीड़ितों को उनके द्वारा संचालित एक फर्जी वेबसाइट पर खाता बनाने के लिए टेलीग्राम/व्हाट्सएप के माध्यम से लिंक भेजते थे। आरोपी शुरू में 100 रुपये से 1,000 रुपये के छोटे निवेश पर उच्च रिटर्न देते थे। रिटर्न 30 प्रतिशत से ऊपर था जो कि हो सकता था। पीड़ितों के बैंक खाते में भेज दिया जाए।

--आईएएनएस

एसजीके

Share this story