शिक्षक भर्ती घोटाला: ममता को घेरने के लिए एक सशक्त आंदोलन करेगी भाजपा

शिक्षक भर्ती घोटाला: ममता को घेरने के लिए एक सशक्त आंदोलन करेगी भाजपा
शिक्षक भर्ती घोटाला: ममता को घेरने के लिए एक सशक्त आंदोलन करेगी भाजपा नई दिल्ली, 2 अगस्त (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को घेरने की कोशिश में भाजपा राज्य में शिक्षक भर्ती घोटाले के खिलाफ अपना आंदोलन तेज करने के लिए पूरी तरह तैयार है।

राज्य भाजपा अध्यक्ष और लोकसभा सदस्य सुकांत मजूमदार और पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने मंगलवार को पार्टी प्रमुख जे. पी. नड्डा से अलग से मुलाकात की। अधिकारी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात की। शाह के साथ अपनी बैठक के दौरान, अधिकारी ने उन्हें शिक्षक घोटाले सहित पश्चिम बंगाल सरकार की भ्रष्ट गतिविधियों के बारे में जानकारी दी।

सूत्रों ने कहा कि अधिकारी ने उन लोगों की सूची साझा की है, जो कथित तौर पर टीएमसी के लिए पैसा इकट्ठा कर रहे हैं। पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी ने ममता बनर्जी सरकार पर अपना हमला तेज कर दिया है, जिसके चलते चटर्जी को पश्चिम बंगाल कैबिनेट से भी हटाना पड़ा।

सूत्रों ने बताया कि मजूमदार के साथ बैठक के दौरान नड्डा ने शिक्षक भर्ती घोटाले के खिलाफ भाजपा के आंदोलन की स्थिति के बारे में पूछा, जिसके संबंध में राज्य के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी को ईडी ने गिरफ्तार किया है।

पार्टी के एक पदाधिकारी ने कहा कि ममता बनर्जी के खिलाफ लोगों में काफी गुस्सा है और इसी घटनाक्रम के बीच चटर्जी पर एक महिला की ओर से चप्पल फेंके जाने पर यह गुस्सा जाहिर भी हो रहा है। उन्होंने कहा, लोगों में गुस्सा खुले तौर पर दिखाई दे रहा है और वे इसे बाहर निकाल रहे हैं। भाजपा तृणमूल कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री बनर्जी को घेरने के लिए अपना हमला तेज करेगी।

पश्चिम बंगाल भाजपा के सह-प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीट किया, यह महिला, जिसने ममता बनर्जी की घूसखोर प्रतिष्ठान के प्रतीक पार्थ चटर्जी पर एक चप्पल फेंकी और नंगे पैर वापस चली गई, वह टीएमसी के दमनकारी शासन के खिलाफ बंगाल के प्रतिरोध का प्रतीक है।

पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष मजूमदार ने दावा किया, घोटाला सामने आने के बाद लोगों की मानसिकता पूरी तरह से बदल गई है। वे मानने लगे हैं कि बनर्जी सरकार पूरी तरह से भ्रष्ट है और उसे सत्ता में बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।

पिछले हफ्ते केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी ने कहा था कि जो मां, माटी, मानुष के नारे लगाते थे, उन्हें अब सिर्फ पैसे, पैसे और केवल पैसे की ही परवाह है। चटर्जी और मुखर्जी दोनों को ईडी ने पिछले महीने गिरफ्तार किया था और इस मामले के संबंध में अब तक कई करोड़ रुपयों की नकदी और संपत्ति जब्त की जा चुकी है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story