सिनेमा हाल में आम आदमी के जेब पर डाका डाल रहे कोल्डड्रिंक्स और पॉपकॉर्न

सिनेमा हाल में आम आदमी के जेब पर डाका डाल रहे कोल्डड्रिंक्स और पॉपकॉर्न
सिनेमा हाल में आम आदमी के जेब पर डाका डाल रहे कोल्डड्रिंक्स और पॉपकॉर्न नोएडा, 22 नवंबर (आईएएनएस)। सिनेमा हाल में पिक्च र और कोल्डड्रिंक- पॉपकॉर्न का गजब रिश्ता है। बिना इसके सिनेमा हाल में पिक्च र का मजा ही नहीं आता है। लेकिन जब कोल्डड्रिंक और पॉपकॉर्न के दाम पिक्च र की टिकट से ज्यादा हो जाए तो मजा खराब हो जाता है।

करोना काल में लगभग 2 साल बंद रहे सिनेमा हॉल अब खुलने लगे हैं। सिनेमा हॉल का कंपटीशन अब ओटीटी प्लेटफॉर्म से भी बढ़ता जा रहा है, क्योंकि ज्यादातर पिक्च रें ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ही रिलीज हो जाती हैं कुछ एक बड़े प्रोडक्शन और बैनर की पिक्च रें अब सिनेमा हॉल में जा रही हैं। जिनको देखने के लिए आम आदमी में उत्सुकता भी रहती है और वह सिनेमा हॉल पहुंचते भी हैं सिनेमा हॉल में लोग फिल्म देखने के साथ-साथ लोग खाने-पीने का भी लुत्फ उठाते हैं। लेकिन आम बाजार और सिनेमा हाल में मिलने वाले खाने पीने के सामानों के दाम में बहुत अंतर देखने को मिल रहा है। जो आम आदमी की जेब पर डाका डाल रहे हैं। बाहर बाजार में मिलने वाली 40 रुपए की कोल्डड्रिंक को सिनेमहाल के अंदर 350 में बेचा जा रहा है। उसके साथ ही महज कुछ ग्राम पॉपकॉर्न के भी रेट अब आसमान छू रहे हैं।

साउथ दिल्ली में रहने वाले साहिल अपने अपने परिवार के साथ पिक्च र देखने डीएलएफ मॉल के पीवीआर प्रोमेंड में गए थे। बेटे ने कोल्डड्रिंक की जिद की तो उसे दिलाने काउंटर पर पहुंचे। बिल देखा तो पता चला की बाजार में मिलने वाली 40 रुपए की आधा लीटर की कोल्ड ड्रिंक की बोतल जितना ही कोल्ड ड्रिंक वहां पर 350 का है। उन्होंने जब इसके बारे में काउंटर पर मौजूद स्लेसमेन से पूछ तो पता चला की उसे दाम के बारे में कुछ पता नहीं है।

ऐसा ही कुछ हाल नोएडा और गाजियाबाद के भी माल में बने सिनेमाहाल का है। नोएडा में रहने वाले हिमांशु भी अपनी पत्नी के साथ हाल ही में सिनेमा हाल में पिक्च र देखने गए थे। यही शिकायत उनकी भी है। उनका कहना है की जब सिनेमा हाल में मिलने वाली कोल्ड ड्रिंक और पॉपकॉर्न के दाम टिकट के दाम से ज्यादा हो जायेंगे तो फिर सिनेमा हाल में पिक्च र देखना महंगा पड़ेगा। जेब पर भी बहुत भार हो जाएगा।

नोएडा के जीआईपी में कार्निवल सिनेमा के मैनेजर ने बताया की रेट उन्हे उनके हेड ऑफिस से ही मिलते है। जो हर ब्रांच में पहले से ही सकुर्लेट कर दिए जाते हैं। वही रेट काउंटर के डिस्प्ले बोर्ड पर भी होते हैं और वही बिल पर भी। जो रेट पहले से तय हैं उसी के मुताबिक चार्ज किया जाता है। कोई एक्स्ट्रा चार्ज नहीं लिया जाता है।

--आईएएनएस

पीकेटी/एएनएम

Share this story