सुरक्षा सेवाओं के लिए भारतीय रेलवे और सी-डॉट अब मिलकर काम करेंगे

सुरक्षा सेवाओं के लिए भारतीय रेलवे और सी-डॉट अब मिलकर काम करेंगे
सुरक्षा सेवाओं के लिए भारतीय रेलवे और सी-डॉट अब मिलकर काम करेंगे नई दिल्ली, 28 अप्रैल (आईएएनएस)। सार्वजनिक सुरक्षा और सुरक्षा सेवाओं के लिए भारतीय रेलवे में दूरसंचार के आधुनिकीकरण के लिए रेलवे और सी-डॉट अब मिलकर काम करेंगे।

दरअसल रेलवे में सी-डॉट के दूरसंचार समाधान और सेवाओं के वितरण और कार्यान्वयन में दूरसंचार सुविधाओं के प्रावधान के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है। रेल मंत्रालय ने दूरसंचार सुविधाओं के प्रावधान के संबंध में समन्वय और संसाधन साझा करने के लिए एक मजबूत सहयोगी कार्य साझेदारी स्थापित करने के लिए सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (सी-डॉट) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। रेलवे में सी-डॉट के दूरसंचार समाधान और सेवाओं का कार्यान्वयन है।

इस समझौता ज्ञापन के साथ, सीडीओटी और रेल मंत्रालय विश्व मानकों का पालन करते हुए एलटीई-आर का उपयोग करते हुए सार्वजनिक सुरक्षा और सुरक्षा सेवाओं के लिए भारतीय रेलवे में दूरसंचार के आधुनिकीकरण के लिए मिलकर काम करेंगे। मेक इन इंडिया (एमआईआई) नीति के अनुरूप भारतीय रेलवे में 5जी उपयोग के मामले, इंटरनेट ऑफ थिंग्स व मशीन टू मशीन एप्लीकेशन, यूनिफाइड नेटवर्क मैनेजमेंट सिस्टम, ओएफसी मॉनिटरिंग व नेटवर्क मैनेजमेंट सिस्टम, वीडियो कॉन्फ्रेंस सॉफ्टवेयर, चैटिंग एप्लिकेशन, राउटर, स्विच और जल्द ही काम किया जायेगा।

इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर समारोह में राजकुमार उपाध्याय, सी-डॉट के कार्यकारी निदेशक अरुणा सिंह के दूरसंचार और रेलवे बोर्ड, दोनों संगठनों के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति रहे।

सी-डॉट और रेल मंत्रालय के बीच तालमेल स्वामित्व की कुल लागत को कम करके, भारत सरकार की मेक इन इंडिया पहल को बढ़ावा देते हुए ये ट्रेन संचालन, सार्वजनिक सुरक्षा और सुरक्षा अनुप्रयोगों के लिए स्वदेशी किफायती दूरसंचार उपकरण और सेवाएं प्रदान करने में मदद करेगा।

--आईएएनएस

पीटीके/एएनएम

Share this story