26 जनवरी के लिए पाक बॉर्डर पर पैनी नजर, बीएसएफ का ऑपरेशन सर्द हवा

26 जनवरी के लिए पाक बॉर्डर पर पैनी नजर, बीएसएफ का ऑपरेशन सर्द हवा
26 जनवरी के लिए पाक बॉर्डर पर पैनी नजर, बीएसएफ का ऑपरेशन सर्द हवा नई दिल्ली, 22 जनवरी (आईएएनएस)। देश भर में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया जाएगा। ऐसे में आतंकी सीमा पर अपने नापाक मंसूबों को अंजाम ना दे पाएं, इसके लिए भारत की प्रथम रक्षा पंक्ति यानी सीमा सुरक्षा बल ने भी कमर कस ली है।

इसी कड़ी में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने पाकिस्तान से लगी सीमाओं पर चौकसी काफी बढ़ा दी है। वहीं एक विशेष अभियान के तहत बीएसएफ ने राजस्थान में ऑपरेशन सर्द हवा की भी शुरूआत की है। जानकारी के मुताबिक 26 जनवरी गणतंत्र दिवस को देखते हुए बीएसएफ ने पाकिस्तान से लगे सभी सीमावर्ती राज्यों में अलर्ट जारी किया है, ताकि सरहद पार से कोई भी परिंदा पर न मार सके।

भारत-पाकिस्तान सीमा पर 26 जनवरी गणतंत्र दिवस को लेकर बीएसएफ ने राजस्थान की सीमा पर ऑपरेशन सर्द हवा की शुरूआत की है। दरअसल सर्दियों के दिनों में कोहरे और धुंध की वजह से सीमा पार से घुसपैठ और किसी भी तरह की नापाक हरकत से निपटने के लिए सीमा सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर आ जाती है।

राजस्थान से लगती पाकिस्तान की सीमा पर 21 से 28 जनवरी तक ऑपरेशन सर्द हवा के नाम से सीमा सुरक्षा बल का यह ऑपरेशन चलेगा, जिसमें तारबंदी के आसपास पेट्रोलिंग को और बढ़ाया जा रहा है। वहीं हैडक्वार्टर के सभी जवान और अधिकारी इस दौरान सीमा पर रहेंगे तथा तारबंदी के पास 24 घंटे निगरानी करेंगे।

एक अधिकारी ने बताया कि बीएसएफ सीमा पर विशेष निगरानी कार्यक्रम चला रही है। इन दिनों सीमांत इलाकों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है।

सर्दी के मौसम में देर रात से सुबह तक धुंध छाई रहती है। ऐसे में इस धुंध का फायदा घुसपैठिए न उठा लें, इसके लिए बीएसएफ की तरफ से ये सर्द हवा ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इस ऑपरेशन के दौरान तारबंदी के नजदीक बीएसएफ के अधिकारी गाड़ियों, ऊंट आदि से लगातार पेट्रोलिंग करेंगे। वहीं सीमा पर 26 जनवरी के दिन कोई नापाक हरकत ना हो इसका भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों ने बताया कि इस ऑपरेशन के दौरान जिन इलाकों में गाड़ियां नहीं जा पाती हैं, वहां कैमल पेट्रोलिंग बढ़ा दी जाएगी। राजस्थान में कई ऐसे रेतीले इलाके हैं, जहां कैमल के जरिए ही निगरानी रखी जाती है।

वहीं इस ऑपरेशन के दौरान सीमा पर बीएसएफ की इंटेलिजेंस विंग भी सक्रिय रहेगी। इसके अलावा अन्य खुफिया एजेंसी भी बीएसएफ के साथ तालमेल में रहती हैं। हर एक संदिग्ध गतिविधि पर नजर रखी जा रही है। यही नहीं ऑपरेशन सर्द हवा के दौरान सेक्टर हेड क्वार्टर के सभी अधिकारी 28 जनवरी तक बॉर्डर पर तारबंदी के नजदीक जवानों के साथ उनकी हौसला अफजाई करने के लिए तैनात रहेंगे।

सूत्रों के मुताबिक बीएसएफ ने जम्मू कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, गुजरात के बॉर्डर के लिए भी अलर्ट दे रखा है। यह किसी भी तरीके के आतंकी हमले या फिर घुसपैठ से निपटने का अलर्ट है। इसी के तहत सुरक्षा बलों ने जम्मू कश्मीर में एलओसी और इंटरनेशनल बॉर्डर पर भी चौकसी बढ़ा दी है।

26 जनवरी से पहले ऐसी बड़ी आशंका है कि जम्मू कश्मीर में सीमा के पास मौजूद लांच पेड के जरिए आतंकी घुसपैठ हो सकती है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आतंकी संगठन और आईएसआई सीमा पार से आतंकियों की घुसपैठ कराने और हथियार भेजने की फिराक में है। इसको लेकर बीएसएफ और आर्मी ने सीमा पर निगरानी बढ़ा दी है।

जानकारी के मुताबिक बीएसएफ ने जम्मू के कई छोटे नाले और 3 बड़ी नदियों में भी अलर्ट बढ़ा दिया है। इन क्षेत्रों में इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस भी बढ़ा दिया गया है। इसके अलावा गुजरात के हरामी नाला क्षेत्र की सुरक्षा भी कड़ी की गई है। यहां बीएसएफ के जवान दिन रात पेट्रोलिंग कर रहे हैं। कई दुर्गम इलाकों में जवान अपनी जान जोखिम में डालकर सीमा की सुरक्षा कर रहे हैं।

वहीं दूसरी तरफ बीएसएफ ने सुरक्षा के लिए पंजाब बॉर्डर पर भी अलर्ट जारी किया है, ताकि सुरक्षा में किसी भी तरीके की चूक न हो। बीएसफ के सूत्र बताते हैं कि पंजाब में ड्रोन के जरिए ड्रग्स के साथ साथ हथियार भेजने की कोशिश हो रही है।

ये हथियार तस्करों की मदद से आतंकियों तक पहुंचाकर देश का माहौल बिगाड़ने की कोशिश की जा सकती है। यही वजह है कि पंजाब सीमा पर भी एंटी ड्रोन सिस्टम सहित आधुनिक उपकरणों से निगरानी रखी जा रही है।

--आईएएनएस

एसपीटी/एसकेपी

Share this story