देश मे मिडिल क्लास हो गया गरीब सर्वे में खुलासा 

 Work from home culture से लोग अब ज्यादा काम कर रहे हैं 

 कोरोना काल में सबसे ज्यादा असर मिडिल क्लास पर पड़ी है ।
एक सर्वे के अनुसार lockdown में बेरोजगारी बढ़ी है ।
मिडिल क्लास की संख्या काफी कम हो गई है गरीबी काफी बड़ी है और वर्तमान में ₹150 कमाने वाले गरीब की श्रेणी में है करो ना कॉल में मिडिल क्लास से निकले एक तिहाई लोग अगर चीन से तुलना की जाए तो भारतीय मिडिल क्लास का आकार काफी घट गया है.

गरीबी काफी तेजी से बढ़ी है अगर चीन से भारत के लोगों के रहन-सहन का स्तर देखा जाए तो करो ना कल के बाद लोगों के रहन-सहन का स्तर भी काफी गिर गया है करुणा काल में भी चीन के लोगों का जो रहन-सहन का स्तर था उस पर कोई फर्क नहीं पड़ा है मिडिल क्लास के लोगों की संख्या 9 करोड़ कम हो गई है इस सर्वे में 10 से 50 करोड़ रोज कमाने वाले लोगों को मिडिल क्लास की श्रेणी में रखा गया है जबकि $2 से कम कमाने वाले लोगों को गरीबों की श्रेणी में रखा गया है।

Twitter पर इस बात को लेकर बहस छिड़ी हुई है कि देश मे गरीब और गरीब कुओं होता जा रहा है सरकार के पास policy

PEW research में बताया गया कि चीन पर कोई असर नही पड़ा जबकि भारत मे मिडल क्लास गरीब हो गया ।

Share this story