कुंडली में चंद्रमा यदि खराब हो तो बढ़ता है कर्ज आती है कंगाली, जानें कैसे बचें?

Kundali
ज्योतिष शास्त्र के जानकार ऐसा कहते हैं कि ज्यादातर मामले में यदि व्यक्ति की कुंडली का मंगल (kundali ka mangal) खराब हो तो व्यक्ति कर्ज में फंस जाता है।

Karz ka karak grah ज्योतिष एक ऐसी विद्या है जो गणना के आधार पर जीवन से जुड़ी हर समस्या और उसके समाधान के बारे में बताता है। कुंडली में ग्रहों की स्थिति को देखकर ये मालूम किया जाता है कि व्यक्ति के जीवन में कौन सी समस्या कब तक रहने वाली है। फिलहाल आगे हम आपको बताएंगे कि कुंडली में कौन सा ग्रह खराब हो तो व्यक्ति कंगाली की स्थिति में आ जाता है या उसे पैसों की तंगी से जूझना पड़ता है। और क्या कुछ खास उपाय करने से जीवन में आ रही अर्थिक बाधा को खत्म किया जा सकता है, ज्योतिष में क्या उपाय बताए गए हैं (karj ka upay)

ज्योतिष शास्त्र (Astrology) के मुताबिक आर्थिक समस्या के लिए लग्न कुंडली (lagna kundali) का छठा, ग्यारहवां और बारहवां घर जिम्मेदार होता है। इन्हीं घरों से कर्ज की स्थिति देखी जाती है। अगर इन ग्रहों के स्वामी अच्छे परिणाम न दें तो कर्ज की स्थिति बनती है। वहीं अगर खर्चे वाला खाना यानी बारहवां खाना मजबूत हो तो व्यक्ति सुख-सुविधा के लिए कर्ज लेता है। (karj ka karan kya hai)
 इसके साथ ही यदि कुंडली का आठवां भाव या तीसरा भाव प्रभावशाली हो जाए तो स्वास्थ्य की रक्षा के लिए व्यक्ति कर्ज लेता है।
 अगर कुंडली में अग्नि तत्व की मात्रा अधिक हो तो भी कर्ज की संभावना प्रबल हो जाती है। इतना ही नहीं अगर कुंडली में मंगल ग्रह कमजोर हो जाए तो ऐसी स्थिति में भी व्यक्ति कर्ज में फंस जाता है। लेकिन ज्यादातर मामले में यदि व्यक्ति की कुंडली का मंगल (kundali ka mangal) खराब हो तो व्यक्ति कर्ज में फंस जाता है।

क्या करें जब नहीं चुकता हो कर्ज? (Karj chukane ke achook upay)

गणेश जी की सिंदूरी प्रतिमा की स्थापना करें। 

उनके सामने घी का चौमुख दीपक जलाएं।

गणेश जी को मोदक यानि लड्डु और सिंदूर अर्पित करें।

इसके बाद कम से कम 108 बार 'ॐ गं' इस एकाक्षरी मंत्र का जाप करें। इस प्रयोग को हर बुधवार को सवेरे के समय करें।

अगर हमेशा कुछ न कुछ कर्ज बना रहता है तो क्या करें

सबसे पहले भगवान गणेश की सिंदूर वर्ण की प्रतिमा स्थापित करें।

इसके बाद उन्हें दूर्वा (दूभ) की माला पहनाएं।

फिर उन्हें सिंदूर अर्पित करें। अगर आप महिला हैं तो सिंदूर के बजाए लाल फूल अर्पित करें। इसके बाद "वक्रतुण्डाय हुं" इस मंत्र को पढ़ें। यहां ध्यान रखना है कि ये प्रयोग हर बुधवार को दोपहर के वक्त करना है। और हर बुधवार को माला बदल दें। ऐसा करने से आपका कर्ज समाप्त होगा।

Share this story

Appkikhabar Banner29042021