आईओसी अध्यक्ष की कॉल के बावजूद चीनी टेनिस स्टार को लेकर चिंतित डब्ल्यूटीए

आईओसी अध्यक्ष की कॉल के बावजूद चीनी टेनिस स्टार को लेकर चिंतित डब्ल्यूटीए
आईओसी अध्यक्ष की कॉल के बावजूद चीनी टेनिस स्टार को लेकर चिंतित डब्ल्यूटीए नई दिल्ली, 22 नवंबर (आईएएनएस)। महिला टेनिस संघ (डब्ल्यूटीए) ने कहा है कि पेंग शुआई और अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के अध्यक्ष के बीच फोन पर हुई बातचीत के बावजूद चीनी टेनिस स्टार को लेकर व्याप्त उनकी चिंताओं का समाधान नहीं हो सका है।

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, कॉल के बाद आईओसी के एक बयान में दावा किया गया है कि पेंग सुरक्षित और स्वस्थ लग रहीं हैं।

35 वर्षीय पेंग, एक वरिष्ठ चीनी मंत्री के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने के बाद लगभग तीन सप्ताह तक लोगों की नजरों से गायब रहीं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आईओसी ने रविवार को एक बयान जारी किया, जब उसके अध्यक्ष थॉमस बाख ने तीन बार की ओलंपियन खिलाड़ी के साथ एक वीडियो कॉल की।

आईओसी अकाउंट की ओर से साझा की गई जानकारी में कहा गया है कि पेंग ने उनकी भलाई के बारे में चिंता करने के लिए आईओसी को धन्यवाद दिया।

बयान में कहा गया है, उन्होंने (पेंग) बताया है कि वह सुरक्षित और स्वस्थ हैं और बीजिंग में अपने घर पर ही रह रहीं हैं, लेकिन इस समय वह निजता बरतना चाह रहीं हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है, वह अभी अपना समय अपने दोस्तों और परिवार के साथ बिताना पसंद कर रहीं हैं। फिर भी, वह टेनिस में शामिल होना जारी रखेंगी।

आईओसी के बयान में वीडियो कॉल की एक तस्वीर भी शामिल है, जिसमें पेंग कैमरे की ओर मुस्कुराते हुए दिखाई दे रहीं हैं।

लेकिन डब्ल्यूटीए ने कहा कि हालिया वीडियो उनकी भलाई और सेंसरशिप या जबरदस्ती किए बिना संवाद करने की क्षमता के बारे में डब्ल्यूटीए की चिंता को कम या संबोधित नहीं करते हैं।

बता दें कि पेंग ने अपनी एक पोस्ट में लिखा था कि पूर्व उप प्रधानमंत्री और सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य झेंग गाओली ने तीन साल पहले टेनिस के दौर के बाद लगातार इनकार करने के बावजूद उन्हें यौन संबंध बनाने के लिए बाध्य किया।

उनके इस आरोप के बाद महिला टेनिस संघ ने हाल ही में चीनी स्टेट मीडिया की ओर से जारी एक ईमेल पर संदेह जताया है, जिसमें टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई को जिम्मेदार ठहराया गया है, जिन्होंने एक पूर्व उप प्रधानमंत्री के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं।

डब्ल्यूटीए के अध्यक्ष और सीईओ स्टीव साइमन ने कहा, पेंग शुआई के संबंध में चीनी स्टेट मीडिया द्वारा आज जारी किया गया बयान केवल उसकी सुरक्षा और ठिकाने के बारे में मेरी चिंताओं को उजागर करता है।

उन्होंने कहा, मुझे यह विश्वास करने में मुश्किल हो रही है कि पेंग शुआई ने वास्तव में हमें प्राप्त ईमेल को लिखा था। पेंग शुआई ने चीनी सरकार में एक पूर्व शीर्ष अधिकारी के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप का वर्णन करने में अविश्वसनीय साहस दिखाया है। डब्ल्यूटीए और बाकी दुनिया को स्वतंत्र और सत्यापन योग्य प्रमाण की आवश्यकता है कि वह सुरक्षित हैं। मैंने बार-बार संचार के कई माध्यमों से उन तक पहुंचने की कोशिश की है, मगर कोई फायदा नहीं हुआ।

साइमन ने कहा कि पेंग को किसी भी स्रोत से जबरन या डराने-धमकाने के बिना, स्वतंत्र रूप से बोलने की अनुमति दी जानी चाहिए। उनके यौन उत्पीड़न के आरोप का सम्मान किया जाना चाहिए, पूरी पारदर्शिता के साथ और बिना सेंसरशिप के जांच की जानी चाहिए।

साइमन ने कहा, महिलाओं की आवाजों को सुनने और सम्मान करने की जरूरत है, न कि सेंसर किए जाने और उन्हें निर्देशित करने की।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story