जब जयरामदास ने गांधी और तिलक के बीच की दरार को दूर किया

जब जयरामदास ने गांधी और तिलक के बीच की दरार को दूर किया
जब जयरामदास ने गांधी और तिलक के बीच की दरार को दूर किया स्वतंत्रता दिवस के आंदोलन में बढ़-चढ़कर भाग लेने के साथ ही भारत के संविधान निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले जयरामदास दौलतराम देश की महान सख्शियतों में से एक रहे हैं।
उनका व्यवहार एवं आभामंडल ऐसा था कि महात्मा गांधी जैसे महान व्यक्तित्व भी उन्हें एक सच्चा और ईमानदार व्यक्ति मानते थे। दौलतराम ने एक बार कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के बीच पनप रही एक दरार को बड़े ही शांत स्वभाव से खत्म करने में भी भूमिका निभाई थी।

भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने वाले संविधान सभा के सदस्य रहे जयरामदास दौलतराम ने गांधी के नमक मार्च में शामिल होने के लिए बॉम्बे विधान परिषद में अपनी सीट छोड़ दी थी और विदेशी वस्तुओं के बहिष्कार के उनके आह्वान पर भरपूर सहयोग दिया था। वह जवाहरलाल नेहरू के मंत्रिमंडल में खाद्य मंत्री भी रहे। इसके अलावा उन्होंने बिहार और असम के राज्यपाल की जिम्मेदारी भी संभाली। इस दौरान नॉर्थ-ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी (अब अरुणाचल प्रदेश) में तवांग में भारतीय तिरंगे के फहराए जाने में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा था।

कराची (अब पाकिस्तान) में एक सिंधी परिवार में जन्मे, जयरामदास दौलतराम (21 जुलाई, 1891 से 1 मार्च 1979) का अकादमिक करियर भी शानदार रहा। उन्होंने कानून की डिग्री प्राप्त करने के बाद कानूनी प्रैक्टिस शुरू की, लेकिन जल्द ही इसे छोड़ दिया, क्योंकि यह अक्सर ही उनके विवेक के साथ साथ संघर्ष का कारण बनता था। यानी कह सकते हैं कि वह मन में उठ रही आजादी की ज्वाला के चलते कानूनी प्रैक्टिस पर ध्यान नहीं दे पाए।

वह 1915 में गांधी के संपर्क में आए, जो तब दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे। इस दौरान वह उनके समर्पित अनुयायी या समर्थक बन गए। चार साल बाद, 1919 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अमृतसर अधिवेशन में, उन्होंने गांधी के संकल्प को इस तरह से बताया कि यह महात्मा गांधी और उनके अन्य कांग्रेस सहयोगियों के बीच एक आसन्न दरार को खत्म करने में सहयोग किया, जिसमें लोकमान्य तिलक और देशबंधु चित्तरंजन (सी. आर.) दास जैसे दिग्गज शामिल थे।

गांधी ने इसे वर्षों बाद याद करते हुए कहा था, जयरामदास., वह शांतचित्त सिंधी, बचाव (मनमुटाव का निपटारा) के लिए आए थे। गांधी ने कहा, उन्होंने मुझे एक सुझाव वाली पर्ची दी और समझौता करने की गुहार लगाई। मैं उन्हें शायद ही जानता था। उनकी आंखों और चेहरे में कुछ था, जिसने मुझे आकर्षित किया। मैंने सुझाव पढ़ा। वह अच्छा था। मैंने इसे देशबंधु (दास) को दे दिया। इस पर उनकी प्रतिक्रिया थी, हां, अगर मेरी पार्टी इसे स्वीकार करती है तो ठीक है।

उनके अनुसार, इस पर फिर लोकमान्य ने कहा, मैं इसे नहीं देखना चाहता। अगर दास ने मंजूरी दे दी है, तो यह मेरे लिए काफी अच्छा है। मालवीय जी (जो उत्सुकता से अध्यक्षता कर रहे थे) ने इसे सुन लिया और मेरे हाथों से कागज छीनते हुए घोषणा कर दी कि एक समझौता हो गया है।

तब से, गांधी ने जयरामदास में बहुत विश्वास व्यक्त करना शुरू कर दिया और उन्होंने उन्हें भारत के महानतम व्यक्तियों में से एक के रूप में संदर्भित किया।

जयरामदास को सरोजिनी नायडू का भी विश्वास और स्नेह प्राप्त था, जिन्होंने सिंध में उनकी सेवाओं के कारण उन्हें रेगिस्तान में एक दीपक के रूप में वर्णित किया, जो कि ज्यादातर एक रेगिस्तान था। इसके साथ ही सरदार वल्लभभाई पटेल और राजेंद्र प्रसाद के साथ भी उनके बहुत करीबी रिश्ते थे।

जब गांधी 1930 में नमक मार्च की शुरूआत कर रहे थे, तब उन्होंने जयरामदास को पत्र लिखते हुए कहा था, मैंने विदेशी कपड़े के बहिष्कार के लिए समिति का कार्यभार संभाला है। अगर वह काम करना है तो मेरे पास एक पूर्णकालिक सचिव होना चाहिए और मैं सोच सकता हूं कि इसके लिए आप जैसा उपयुक्त कोई और नहीं है।

इसके बाद जयरामदास ने तुरंत अपनी बॉम्बे विधान परिषद की सीट से इस्तीफा दे दिया और अपना नया कार्यभार संभाला, जिससे विदेशी कपड़े के बहिष्कार को जबरदस्त सफलता मिली।

जयरामदास ने असहयोग आंदोलन (1920-22), नमक मार्च (1930-31) में भाग लिया - जिसके दौरान उन्हें जांघ में गोली मारकर घायल कर दिया गया था, जब पुलिस ने 1930 में एक मजिस्ट्रेट की अदालत के बाहर आंदोलनकारियों पर गोलियां चलाई थीं - और भारत छोड़ो आंदोलन (1942-45) के दौरान ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा उन्हें गिरफ्तार भी किया गया था।

असम के राज्यपाल (1950-56) के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान जयरामदास के कहने पर, मणिपुर के एक नागा रानेंगलाओ बॉब खथिंग, जिन्होंने एक सिविल सेवक और एक राजनयिक के रूप में भी सेवा की थी, ने एक ब्रिटिश खुफिया अधिकारी टी. सी. एलन के साथ 7 फरवरी, 1951 को तवांग पहुंचकर भारतीय तिरंगा फहराया था।

जयरामदास ने सिंधी साहित्य के संरक्षण में एक प्रमुख भूमिका निभाई थी, जो साहित्य सभा (अखिल भारतीय सिंधी भाषा और साहित्य कांग्रेस) में अखिल भारत सिंधी बोली के संस्थापक सदस्यों में से एक थे।

1967 में, सिंधी भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची की मूल सूची में शामिल होने वाली पहली भाषा बन गई थी, जो कि एक ऐसा कदम था, जिसने सिंधी शरणार्थियों की भाषाई पहचान को विभाजन से उखाड़ फेंका और इसे राजनीतिक मान्यता प्रदान की।

अन्य भाषाई अल्पसंख्यकों के लिए इसके महत्वपूर्ण पहलू थे, जिनके क्षेत्र के साथ संबंध एक भाषाई राज्य के साथ नहीं थे या जो उस भाषाई राज्य की प्रमुख भाषा के अलावा अन्य भाषाएं बोलते थे, जिसमें वे रहते थे।

हमारे देश की आजादी के नायकों में शुमार जयरामदास दौलतराम का 87 वर्ष की आयु में 1 मार्च 1979 को नई दिल्ली में निधन हो गया था।

--आईएएनएस

एकेके

Share this story