दक्षिण कोरिया की जन्म दर सितंबर में रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंची

दक्षिण कोरिया की जन्म दर सितंबर में  रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंची
दक्षिण कोरिया की जन्म दर सितंबर में  रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंची सियोल, 24 नवंबर (आईएएनएस)। दक्षिण कोरिया में 1981 में डेटा संकलन शुरू होने के बाद से जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या सितंबर में रिकॉर्ड स्तर पर कम हो गई। ये जानकारी बुधवार को सामने आई जो देश की जनसांख्यिकीय स्थिति को जन्म दर के साथ रेखांकित करती है।

सांख्यिकी कोरिया द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, सितंबर में कुल 21,920 बच्चों का जन्म हुआ, जो पिछले साल की तुलना में 6.7 प्रतिशत कम है।

तीसरी तिमाही में, नवजात बच्चों की संख्या भी 66,563 के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गई, जो एक साल पहले की तुलना में 3.4 प्रतिशत कम है।

दक्षिण कोरिया बच्चों के जन्म की संख्या में लगातार गिरावट से जूझ रहा है, क्योंकि लंबे समय तक आर्थिक मंदी और मकानों की आसमान छूती कीमतों के बीच कई युवा शादी या बच्चे पैदा करने में देरी करते हैं।

जुलाई-सितंबर की अवधि में देश की कुल प्रजनन दर एक महिला के अपने जीवनकाल में बच्चों की औसत संख्या 0.82 थी, जो पिछले वर्ष 0.84 से कम है और किसी भी तीसरी तिमाही के लिए सबसे कम है।

दक्षिण कोरिया की कुल प्रजनन दर पिछले साल 0.84 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गई। इसने लगातार तीसरे वर्ष को चिह्न्ति किया कि दर 1 प्रतिशत से कम थी।

इस बीच, तेजी से बढ़ती उम्र के बीच सितंबर में लगातार सातवें महीने मौतों की संख्या में वृद्धि हुई।

एक साल पहले की तुलना में 5 प्रतिशत ज्यादा, महीने में मौतों की संख्या 25,566 हो गई। यह 1983 के बाद से किसी भी साल के सितंबर के लिए सबसे ज्यादा है, जब एजेंसी ने संबंधित डेटा का संकलन करना शुरू किया था।

तीसरी तिमाही में, मौतों की संख्या 4.7 प्रतिशत से बढ़कर 77,077 हो गई।

सितंबर में देश की जनसंख्या में 3,646 की गिरावट आई, जो लगातार 23वें महीने गिरावट का प्रतीक है।

वर्ष के पहले नौ महीनों में, देश ने जनसंख्या में 26,204 की प्राकृतिक गिरावट दर्ज की।

दक्षिण कोरिया ने 2020 में जनसंख्या में पहली प्राकृतिक गिरावट दर्ज की, क्योंकि मरने वालों की संख्या नवजात बच्चों से ज्यादा थी।

नीति निर्माताओं ने चेतावनी दी कि अगर देश समय पर जनसांख्यिकीय चुनौतियों से नहीं निपटता है तो देश को 2030-40 में उम्र के भूकंप का सामना करना पड़ सकता है, जो जनसंख्या में गिरावट और बढ़ती आबादी से भूकंप जैसा जनसांख्यिकीय झटका है।

इस बीच, शादी करने वालों की संख्या सितंबर में सालाना आधार पर 10.4 प्रतिशत घटकर 13,733 रह गई।

सांख्यिकी कार्यालय के अनुसार, विवाह की गिरावट के बीच, ज्यादा लोगों ने कोरोना महामारी के कारण अपनी शादियों को स्थगित या विलंबित किया।

इन आंकड़ों से पता चलता है कि महीने में तलाक 12.3 फीसदी घटकर 8,366 रह गए हैं।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

Share this story