दिल्ली नाईटलाइफ: अमेरिका व यूरोपियन शहरों के फूड ट्रक मॉडल को किया गया स्टडी

दिल्ली नाईटलाइफ: अमेरिका व यूरोपियन शहरों के फूड ट्रक मॉडल को किया गया स्टडी
दिल्ली नाईटलाइफ: अमेरिका व यूरोपियन शहरों के फूड ट्रक मॉडल को किया गया स्टडी नई दिल्ली, 27 जुलाई (आईएएनएस)। दिल्ली की रात्रि की अर्थव्यवस्था को और मजबूत करने व नागरिकों को बेहतर नाईटलाइफ देने की दिशा में दिल्ली सरकार जल्द ही दिल्ली की पहली फूड ट्रक पॉलिसी लेकर आने वाली है। इस दिशा में दिल्ली फूड ट्रक पॉलिसी के लिए सरकार ने अमेरिका व यूरोपियन शहरों के फूड ट्रक मॉडल को स्टडी किया है। अमेरिका व यूरोपीय शहरों के अनुरूप दिल्ली में भी फूड सेफ्टी व हाइजीन का ध्यान रखते हुए इस पॉलिसी को अपनाया जाएगा। अभी वर्तमान में दिल्ली में विभिन्न स्थानों पर फूड ट्रक की शुरूआत करने के लिए सरकार की संबंधित एजेंसी जगहों को चिन्हित कर रही है।

दरअसल दिल्ली सरकार ने दिल्ली में 20 लाख रोजगार अवसर तैयार करने की योजना बनाई है इसी दिशा में बुधवार को दिल्ली के वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में उपमुख्यमंत्री ने बहुचर्चित दिल्ली शॉपिंग फेस्टिवल के प्रगति की भी समीक्षा की। 28 जनवरी से 26 फरवरी 2023 तक चलने वाले विश्वस्तरीय दिल्ली शॉपिंग फेस्टिवल के तहत दिल्ली के लोगों और दिल्ली की संस्कृति का अनुभव करने के साथ-साथ शॉपिंग करने के लिए देश और दुनिया भर के लोगों को निमंत्रित किया जाएगा। पूरे फेस्टिवल के दौरान लोगों को शॉपिंग के लिए आकर्षक ऑफर व डिस्काउंट दिया जाएगा। शॉपिंग फेस्टिवल से घरेलू और विदेशी सहित भारी संख्या में पर्यटकों आकर्षित होंगे। इससे होटल, रेस्तरां और अन्य व्यवसायों को बड़े पैमाने पर लाभ होगा।

इससे इन क्षेत्रों में कार्यरत 10 लाख से अधिक लोगों के जीवन पर प्रभाव पड़ेगा और दिल्ली की अर्थव्यवस्था को एक बड़ा बढ़ावा मिलेगा। समीक्षा के दौरान अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली शॉपिंग फेस्टिवल के लिए सभी संबंधित एजेंसियां शहर के सौन्दर्यकरण करने और विभिन्न बाजारों से समन्वय स्थापित करने की दिशा में तेजी से काम कर रही हैं।

इस बैठक में दिल्ली शॉपिंग फेस्टिवल, रिटेल मार्केटों के पुनर्विकास, दिल्ली के फूड हबों का विकास व फूड ट्रक पॉलिसी संबंधी चल रहे विभिन्न प्रोजेक्ट्स के प्रगति की समीक्षा की गई। बैठक में सभी एजेंसीज को समय रहते सभी प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के निर्देश दिए।

वित्तमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि रोजगार बजट के अंतर्गत आने वाले इन प्रोजेक्ट्स के माध्यम से हमारा फोकस शहर की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के साथ-साथ नए रोजगार सृजित करना है। उन्होंने कहा कि रिटेल बाजारों व फूड हबों के पुनर्विकास के माध्यम से हमारा उद्देश्य इन मार्केटों को वैश्विक पहचान देना है। साथ ही दिल्ली शॉपिंग फेस्टिवल के द्वारा हम दिल्ली व देश के लोगों को शॉपिंग का विश्वस्तरीय अनुभव प्रदान करना चाहते हैं। सरकार इन सभी परियोजनाओं को पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर कार्य कर रही है।

सरकार दिल्ली के प्रतिष्ठित रिटेल बाजारों को नया रूप देने के काम कर रही है, इसके लिए कई बार मार्केट एसोसिएशन सहित विभिन्न स्टेकहोल्डर्स के साथ बैठक की गई व उसके पश्चात पहले फेज के लिए 5 बाजारों का चयन किया गया। बैठक में अधिकारियों ने बताया कि वर्तमान में पुनर्विकास के लिए चयनित 5 बाजारों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए उसके लिए प्लान तैयार किया जा रहा है व चरणबद्ध तरीके से इन बाजारों के पुनर्विकास का काम किया जाएगा।

दिल्ली सरकार दिल्ली के आइकोनिक फूड मार्केटों के पुनर्विकास पर भी काम कर रही है। इस दिशा में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा पिछले सप्ताह पुनर्विकास के पहले चरण के लिए मजनूं का टीला व चांदनी चौक को फूड हब के रूप में विकसित करने की घोषणा की। बुधवार को समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों ने उपमुख्यमंत्री को बताया कि फिलहाल में इन दोनों मार्केटों की बुनियादी व भौतिक जरूरतों की पहचान की जा रही है इसके बाद इन दोनों मार्केटों के पुनर्विकास के लिए आने वाले दिनों में एक डिजाइन प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। उसके बाद सबसे बेहतरीन डिजाइन को चयनित कर इन फूड हबों के रि-डेवलपमेंट का काम शुरू कर दिया जाएगा।

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

Share this story