भारतीय सभ्यता से प्रभावित फ्रांसीसी लड़की ने की बिहार के व्यक्ति से शादी (लीड-1)

भारतीय सभ्यता से प्रभावित फ्रांसीसी लड़की ने की बिहार के व्यक्ति से शादी (लीड-1)
भारतीय सभ्यता से प्रभावित फ्रांसीसी लड़की ने की बिहार के व्यक्ति से शादी (लीड-1) बेगूसराय (बिहार), 23 नवंबर (आईएएनएस)। फ्रांस की लड़की से शादी करने वाले बिहार के बेगूसराय के रहने वाले राकेश इन दिनों सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं।

एक साधारण से परिवार से संबंध रखने वाले एक बिहारी लड़के की फ्रांसीसी लड़की से शादी करने की खबर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद नेटिजन्स (इंटरनेट पर समय बिताने वाले) ने इसका बहुत प्यार से स्वागत किया है।

मैरी लोरी हेरल, जो पेरिस में एक व्यवसायी हैं, लगभग छह साल पहले भारत आई थीं और उसे बेगूसराय के कथारिया गांव के निवासी अपने टूर गाइड राकेश से प्यार हो गया।

राकेश, जो दोनों के मिलने के समय दिल्ली में बस गया था, पेरिस वापस जाने के बाद भी उससे संपर्क में रहा। इस दौरान दोनों ने फोन पर एक-दूसरे से अपने प्यार का इजहार भी किया।

तीन साल बाद, मैरी ने राकेश को पेरिस आने और उसके साथ कपड़ा व्यवसाय शुरू करने के लिए कहा। साथ काम करना शुरू करने के बाद, वे एक-दूसरे के करीब आ गए और शादी करने का फैसला किया।

राकेश के पिता रामचंद्र शा ने कहा कि मैरी भारतीय संस्कृति से इतनी प्रभावित हुईं कि उन्होंने यहां आकर शादी करने का फैसला किया। दोनों परिवारों की सहमति लेने के बाद मैरी और राकेश ने रविवार को हिंदू रीति-रिवाज से शादी के बंधन में बंध गए। समारोह में शामिल होने के लिए फ्रांस से आए मैरी के परिवार के सदस्यों ने नवविवाहितों को बधाई दी।

राकेश के परिवार ने बताया कि दोनों परिवार हिंदू रीति-रिवाज जयमाला से पहले एकजुट हुए और शादी के बाद हिंदी और भोजपुरी गानों पर डांस भी किया।

समारोह में विदेशी मेहमान भी शामिल हुए, जिन्हें बिहार की संस्कृति से प्यार हो गया। वे हर हिंदू अनुष्ठान में खुशी-खुशी भाग ले रहे थे। वे अब यहां एक हफ्ते के लिए रुकने की योजना बना रहे हैं।

राकेश के परिवार के अनुसार, मैरी बेगूसराय जैसे छोटे शहर में शादी करना चाहती थी, क्योंकि उसे बिहारी प्रथा पसंद है। समारोह की सभी व्यवस्थाएं और निर्णय दोनों परिवारों ने मिलकर किए थे।

नवविवाहित जोड़ा एक हफ्ते तक भारत में रहेगा और फिर पेरिस लौट जाएगा।

इस बीच अंतरजातीय विवाह की खबर आने के बाद फ्रांसीसी दुल्हन को देखने के लिए ग्रामीण बड़ी संख्या में जुटने लगे।

--आईएएनएस

एकेके/आरजेएस

Share this story