महंगाई भत्ते पर हड़ताल को लेकर बंगाल सरकार के कार्यालयों में सामान्य कामकाज प्रभावित रहा

महंगाई भत्ते पर हड़ताल को लेकर बंगाल सरकार के कार्यालयों में सामान्य कामकाज प्रभावित रहा
कोलकाता, 10 मार्च (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में राज्य सरकार के विभिन्न कार्यालयों में शुक्रवार को महंगाई भत्ते के बकाये के भुगतान की मांग को लेकर राज्य सरकार के संयुक्त मंच द्वारा आहूत हड़ताल के कारण सामान्य कामकाज प्रभावित रहा।

नबन्ना के राज्य सचिवालय और राज्य शिक्षा विभाग स्थित विकास भवन में उपस्थिति सामान्य से थोड़ी कम दर्ज की गई, कोलकाता के साथ-साथ जिलों में राज्य के अन्य प्रमुख सरकारी कार्यालयों में दर्ज की गई उपस्थिति सामान्य से बहुत कम थी।

बांकुरा और पुरुलिया जैसे जिलों से हड़ताली कर्मचारियों और इसका विरोध करने वालों के बीच झड़प की छिटपुट घटनाओं की सूचना मिली थी। हड़ताल का अधिकतम प्रभाव कलकत्ता उच्च न्यायालय और राज्य की विभिन्न निचली अदालतों में महसूस किया गया क्योंकि कोर्ट क्लर्कों का एक बड़ा वर्ग ड्यूटी से अनुपस्थित रहा।

विभिन्न सरकारी शिक्षण संस्थानों में सामान्य शिक्षण प्रक्रिया भी प्रभावित हुई क्योंकि बड़ी संख्या में शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों ने हड़ताल में भाग लिया। कई स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति भी सामान्य दिनों की तुलना में कम रही।

पश्चिम बंगाल की वित्त प्रभारी मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) चंद्रिमा भट्टाचार्य ने हालांकि दावा किया कि राज्य सरकार के बहुमत ने हड़ताल के आह्वान को अस्वीकार कर दिया है और सामान्य रूप से अपनी ड्यूटी में भाग लिया है। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य के वित्त विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार, जो शुक्रवार को ड्यूटी पर नहीं पहुंचे, उन्हें पहले कारण बताओ नोटिस दिया जाएगा और संतोषजनक जवाब न मिलने पर अनुपस्थिति को अकार्य (सेवा विराम) माना जाएगा और उस दिन के लिए कोई वेतन स्वीकार्य नहीं होगा।

तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के सांसद अभिषेक बनर्जी ने हड़ताली कर्मचारियों को नई दिल्ली जाने और वहां विरोध प्रदर्शन करने की सलाह दी। उन्होंने कहा, उन्हें केंद्र सरकार से पूछना चाहिए कि 1.15 लाख करोड़ रुपये का केंद्रीय बकाया अभी भी पश्चिम बंगाल सरकार को क्यों नहीं दिया गया है।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम

Share this story