राम प्रसाद बिस्मिल- एक ऐसे कवि-क्रांतिकारी, जिन्होंने भारत को दिया आजादी का नारा

राम प्रसाद बिस्मिल- एक ऐसे कवि-क्रांतिकारी, जिन्होंने भारत को दिया आजादी का नारा
राम प्रसाद बिस्मिल- एक ऐसे कवि-क्रांतिकारी, जिन्होंने भारत को दिया आजादी का नारा वह पटना के बिस्मिल अजीमाबादी थे, जिन्होंने 1921 में सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना कि जोर कितना बाजू-ए-कातिल में है लिखा था और वह राम प्रसाद बिस्मिल थे, जिन्होंने इन पंक्तियों को अमर कर दिया था। यह कविता/शायरी या गीत ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत के स्वतंत्रता संग्राम में युद्ध का नारा बन गई थी।

राम प्रसाद बिस्मिल स्वयं एक प्रतिभाशाली शायर/कवि थे, जिन्होंने राम, अ™ोय और बिस्मिल के नाम से उर्दू और हिंदी में लिखा था।

वह हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन (जो हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन बन गया) के संस्थापक सदस्य भी थे, जिनके अधिक लोकप्रिय क्रांतिकारी सदस्य भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद भी रहे।

राम प्रसाद बिस्मिल का जन्म 11 जून, 1887 को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में हुआ था। उनके माता-पिता का नाम मुरलीधर और मूलमती था।

एक बच्चे के रूप में, बिस्मिल ने उन क्रूर अत्याचारों को देखा, जो ब्रिटेन के औपनिवेशिक शासन ने भारतीयों पर थोपे थे। वे गहराई से प्रभावित हुए और क्रांतिकारी आदशरें की ओर झुकाव करने लगे। उन्होंने आग्नेयास्त्र (फायरआर्म्स) चलाने की कला में भी महारत हासिल की और फिर बंगाली क्रांतिकारियों सचिंद्र नाथ सान्याल और जादूगोपाल मुखर्जी के साथ मिलकर उत्तर भारत में एक क्रांतिकारी संगठन हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचआरए) की स्थापना की, जिसने भारत को ब्रिटिश शासन की बेड़ियों से मुक्त करने की कसम खाई थी।

बिस्मिल ने अपनी देशभक्त मां, मूलमती से अपनी किताबें देशवासियों के नाम, स्वदेशी रंग, मन की लहर और स्वाधीनता की देवी लिखने और प्रकाशित करने के लिए पैसे उधार लिए, ताकि जनता का ध्यान उनकी ओर आकर्षित किया जा सके और इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए पैसे की जरूरत को पूरा किया जा सके।

यह घटनाक्रम तब का था, जब वह क्रांतिकारी स्वतंत्रता संग्राम के अन्य प्रमुख शख्सियतों जैसे अशफाकउल्लाह खान, रोशन सिंह और राजेंद्र लाहिड़ी से मिले और उनके करीबी दोस्त बन गए।

बिस्मिल ने चंद्रशेखर आजाद और भगत सिंह जैसे गतिशील युवाओं को एचआरए की तह में लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो बाद में हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचएसआरए) बन गया।

दरअसल, बिस्मिल ने ही चंद्रशेखर आजाद को उनकी चपलता, देशप्रेम की तड़प और नए विचारों के लिए हमेशा मौजूद उत्साह के सम्मान में क्विक सिल्वर नाम दिया था।

बिस्मिल ने अशफाकउल्लाह खान के साथ एक जीवन भर का बंधन साझा किया था। दोनों ने एक समान विचारधारा, आदर्श और गहरी देशभक्ति साझा की। वे एक साथ रहते थे, एक साथ काम करते थे और हमेशा एक-दूसरे का साथ देते थे।

अपनी आत्मकथा में, बिस्मिल ने एक पूरा अध्याय अशफाकउल्लाह खान को समर्पित किया। दोनों ने 1925 की मशहूर काकोरी ट्रेन डकैती में अहम भूमिका निभाई थी।

यह महसूस करते हुए कि अंग्रेजों को उखाड़ फेंकने के लिए एक क्रांति के आयोजन के लिए हथियारों की खरीद और पुरुषों को प्रशिक्षित करने के लिए धन की आवश्यकता है, एचआरए के मुख्य नेतृत्व ने औपनिवेशिक सरकार के खजाने को लूटने का फैसला किया था।

9 अगस्त, 1925 को शाहजहांपुर से लखनऊ के लिए चली नंबर 8 डाउन ट्रेन काकोरी के पास थी कि तभी अशफाकउल्लाह ने दूसरे दर्जे (सेकंड क्लास) के डिब्बे में जंजीर खींच ली।

ट्रेन अचानक रुक गई और वह अपने दोस्तों सचिंद्र बख्शी और राजेंद्र लाहिड़ी के साथ काकोरी प्लॉट में अपनी ड्यूटी का पहला हिस्सा करने के बाद उतर गए। इसके बाद तीनों एचआरए के अन्य क्रांतिकारियों के साथ ट्रेन के गार्ड को वश में करने और उसमें सवार आधिकारिक नकदी लूटने में शामिल हो गए।

इस घटना ने ब्रिटिश शासकों की जड़ें हिला दीं और औपनिवेशिक अधिकारियों ने हमले के एक महीने के भीतर दो दर्जन से अधिक एचआरए सदस्यों (बिस्मिल सहित) को गिरफ्तार कर लिया। उसके बाद हुए मुकदमे के दौरान, चार क्रांतिकारियों - राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाकउल्लाह खान, रोशन सिंह और राजेंद्र नाथ लाहिड़ी को मौत की सजा सुनाई गई और उन्हें अलग-अलग जेलों में भेज दिया गया। अन्य लोगों को जेल की सजा मिली।

लखनऊ सेंट्रल जेल के बैरक नंबर 11 में बिताए गए अपने समय के दौरान, बिस्मिल ने अपनी आत्मकथा (1928 में पत्रकार गणेश शंकर विद्यार्थी द्वारा प्रकाशित) लिखी थी, जिसे आज भी हिंदी साहित्य की बेहतरीन कृतियों में से एक माना जाता है। यहीं पर वह एक गीत के साथ सामने आए, जो स्वतंत्रता पूर्व युग के सबसे प्रतिष्ठित गीतों में से एक बन गया। गाना है मेरा रंग दे बसंती चोला।

19 दिसंबर, 1927 को हंसी-खुशी से फांसी पर चढ़ने से पहले बिस्मिल ने अपनी मां को अपना अंतिम पत्र लिखा। उन्होंने अपने होठों पर जय हिंद शब्दों के साथ दुनिया को अलविदा कर दिया, जिसके बाद राप्ती नदी के तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। सैकड़ों भारतीयों ने एक प्रेरक नेता के निधन पर शोक व्यक्त किया। इस प्रकार, भारत के सबसे असाधारण स्वतंत्रता सेनानियों में से एक का जीवन समाप्त हो गया।

दिलचस्प बात यह है कि कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने महसूस किया था कि वह अपने जीवन काल में स्वतंत्र भारत नहीं देख पाएंगे। बिस्मिल ने फिर से अपनी मातृभूमि की सेवा करने के लिए पुनर्जन्म की कामना करते हुए एक कविता लिखी थी।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story