हाशिए पर रहने वाले आम लोगों के लिए एक शाही पहल

हाशिए पर रहने वाले आम लोगों के लिए एक शाही पहल
हाशिए पर रहने वाले आम लोगों के लिए एक शाही पहल अहमदाबाद, 4 अगस्त (आईएएनएस)। वडोदरा में गायकवाड़ शासन सभी समुदायों के लोगों को शिक्षा, रोजगार, समानता और सुरक्षा प्रदान करने के लिए जाना जाता है।

20वीं सदी में सर सयाजीराव गायकवाड़ के शासन के दौरान किन्नरों को भी अन्य आम लोगों की तरह शिक्षा और स्वतंत्रता की अनुमति थी। उनके पास विशेष अधिकार भी थे, जो उन्हें भीख मांगने से रोकते थे।

इतिहास खुद को दोहरा रहा है, क्योंकि वडोदरा का पूर्व शाही परिवार एक विशेष कैफे शुरू कर रहा है, जो एलजीबीटीक्यूए समुदाय के लोगों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का काम करेगा। यह गुजरात में पहला कैफे होगा, जो पूर्व रॉयल्स के संरक्षण में एलजीबीटीक्यूए समुदाय द्वारा और उसके लिए चलाया जाएगा।

यह कैफे महारानी चिमनाबाई स्त्री उद्योग में खोला जाएगा, जो महिलाओं और ट्रांसजेंडर सशक्तिकरण के लिए विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण और सहायता प्रदान करता है। कैफे एलजीबीटीक्यूए समुदाय के शेफ और सर्विस स्टाफ को काम पर रखेगा।

इसके अतिरिक्त, घर से उद्यमशीलता की गतिविधियों में लगी महिलाओं को भी इस कैफे में नियोजित किया जाएगा। इस पहल की तैयारियों में एलजीबीटीक्यूए समुदाय के 20 लोगों को प्रशिक्षण देना होगा।

प्रगतिशील गजराबाई देवी के नाम पर कैफे का नाम गजरा कैफे रखा गया है, जो बड़ौदा की महारानी चिमनाबाई बनीं।

26 और 27 अगस्त को ऊर्जा कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, इस दौरान इस कैफे का उद्घाटन किया जाएगा। इस आयोजन में खाने के लिए कई स्टॉल होंगे, जिनमें से चुनने के लिए विभिन्न प्रकार के व्यंजन होंगे।

गांधीनगर क्वीर प्राइड फाउंडेशन के सदस्यों ने आईएएनएस को बताया कि एक संगठन जो यौन अल्पसंख्यकों और एलजीबीटीक्यूए समुदाय को सुरक्षित स्थान, सशक्तिकरण और उत्थान प्रदान करने के लिए काम करता है, जब हम अन्य संगठनों, व्यक्तियों और शहरों को इस तरह की प्रगतिशील पहल करते देखते हैं, तो हमें बहुत खुशी होती है। हाशिए के समुदायों को मुख्यधारा में लाकर, उन्हें समान काम और कमाई के अवसर देकर और उन्हें समाज के सामने रखकर उनकी ²श्यता आज अत्यंत महत्वपूर्ण है।

--आईएएनएस

एचके/एएनएम

Share this story