हैदराबाद के पास मस्जिद गिराए जाने के विरोध मे प्रदर्शन

हैदराबाद के पास मस्जिद गिराए जाने के विरोध मे प्रदर्शन
हैदराबाद के पास मस्जिद गिराए जाने के विरोध मे प्रदर्शन हैदराबाद, 2 अगस्त (आईएएनएस)। हैदराबाद के बाहरी इलाके शमशाबाद में नगरपालिका अधिकारियों द्वारा मंगलवार को एक मस्जिद को गिराए जाने के बाद विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए।

ग्रीन एवेन्यू कॉलोनी में मस्जिद-ए-खाजा महमूद को नगर निगम के कर्मचारियों ने सुबह भारी पुलिस मौजूदगी के बीच ध्वस्त कर दिया।

इस घटना का स्थानीय मुस्लिम निवासियों और विभिन्न दलों के नेताओं ने कड़ा विरोध किया।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) और मजलिस बचाओ तहरीक (एमबीटी) के नेताओं ने अपना विरोध दर्ज कराया।

एमबीटी नेता अमजेदुल्ला खान ने कहा कि मस्जिद का निर्माण तीन साल पहले किया गया था और जुमे की नमाज सहित रोजाना पांच बार नमाज अदा की जा रही थी।

उन्होंने बताया कि शमशाद ग्रामपंचायत की अनुमति के बाद 15 एकड़ भूमि पर ग्रीन एवेन्यू कॉलोनी का प्लॉट और बिक्री की गई थी। 250 वर्ग गज के दो भूखंडों को मस्जिद के लिए एक साइट के रूप में चिह्न्ति किया गया था।

एक व्यक्ति, जिसका घर मस्जिद के बगल में है, ने कुछ अन्य निवासियों के साथ मस्जिद के निर्माण के खिलाफ शमशाद नगर निगम के अधिकारियों से शिकायत की थी।

एमबीटी नेता ने कहा कि हालांकि मामला अदालत में था, लेकिन नगर निगम के अधिकारियों ने धार्मिक भावनाओं को आहत करते हुए विध्वंस का सहारा लिया।

एआईएमआईएम के स्थानीय नेताओं ने भी नगर निगम कार्यालय पर धरना दिया। उन्होंने मस्जिद को गिराने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

पुलिस ने बाद में प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया, जिनका नेतृत्व राजेंद्र नगर विधानसभा क्षेत्र के एआईएमआईएम प्रभारी मिर्जा रहमथ बेग कर रहे थे।

मुस्लिम नेताओं ने विध्वंस की निंदा की है और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) सरकार से जिम्मेदार लोगों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने का आग्रह किया है।

एमबीटी नेता खान ने कहा कि केसीआर के नेतृत्व वाली टीआरएस सरकार भाजपा की योगी सरकार के नक्शेकदम पर चल रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि 2014 में टीआरएस पार्टी के सत्ता में आने के बाद से तेलंगाना में छह मस्जिदों को तोड़ा गया।

उन्होंने उन मुस्लिम संगठनों और राजनेताओं की चुप्पी पर सवाल उठाया जो केसीआर को एक धर्मनिरपेक्ष नेता के रूप में दावा करते हैं।

--आईएएनएस

आरएचए/एएनएम

Share this story