मंचूरियन चिकन का आविष्कार किस देश ने किया था | Kya Hai Chicken Manchurian Ki Kahani ?

kya hai chicken manchurian ki kahani

चिकन मंचूरियन कहां से है?

Chicken Manchurian Kahan Ki Dish Hai?

मंचूरियन भारत कैसे आया?

दुनिया भर में चिकन लवर्स की भारी भरकम तादाद है. और इसकी एक वजह भी है. दरअसल, चिकन में जो वैराइटीज़ देखने को मिलती हैं वो और किसी में भी नहीं मिलती. अगर हम चिकन की अलग-अलग डिशेज़ के नाम लेने बैठें तो शायद सुबह से शाम हो जाएगी लेकिन लिस्ट खत्म नहीं होगी. वैसे चिकन की एक डिश है जिसे चिकन मंचूरियन कहा जाता है, उसे लेकर आजकल बड़ी चर्चा हो रही है. 

चिकन मंचूरियन की उत्पत्ति कहां से होती है?

चर्चा यह कि आखिर चिकन मंचूरियन का ईजाद कहां हुआ था. हमारे इंडिया वाले बोल रहे हैं कि यह हमारी डिश है और उधर पाकिस्तान वाले बोल रहे हैं कि यह उनकी डिश है. तो चलिए आज हम इसी सवाल के जवाब को तलाशने की कोशिश करते हैं और पता लगाते हैं कि चिकन मंचूरियन की पैदाइश कहां पर हुई थी. मंचूरियन का नाम जिस भी डिश के आगे लग जाए वो समझ लीजिए कि चाईना की हो जाती है. क्योंकि मंचूरियन चाईना में ही पैदा हुई थी. वो बात अलग है कि भारतीय लोगों ने अपनी सब्जियों के साथ मंचूरियन बनाना शुरू कर दिया जैसे वेज मंचूरियन, पनीर मंचूरियन, मशरूम मंचूरियन, सोयाबीन मंचूरियन, पोहा मंचूरियन, मोमोज मंचूरियन आदि.  खैर, चिकन मंचूरियन इन सबसे जरा हटके है. क्योंकि इसे किसी इंडियन ने नहीं बल्कि एक चाईनीज ने ही सबसे पहले बनाया था. हालांकि यह एक बड़ी इंटरेस्टिंग बात है कि उन्होंने चिकन मंचूरियन बनाया इंडिया में ही था. जी हां, चिकन मंचूरियन, जिसे आप बड़े चाव से खाते हैं उसके लिए आपको क्रिकेट का शुक्रिया ज़रूर अदा करना चाहिए. क्योंकि इसके आविष्कार के तार सीधे तौर पर क्रिकेट से ही जुड़े हुए हैं. 

kya hai chicken manchurian ki kahani

क्या चिकन मंचूरियन चाइनीस डिश है?

बात दरअसल है साल 1974 की. Nelson Wang नाम के चाईनीज़ नस्ल के भारतीय शेफ मुंबई आए और यहां के क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया में बतौर शेफ नौकरी करने लगे. उनके बनाए गए खानों की खूब तारीफें होने लगीं और दूर-दराज से लोग सिर्फ उनके हाथ का खाना खाने के लिए ही वहां आने लगे. धीरे-धीरे 1 साल गुजर गया. साल आया 1975 का. एक खाने के शौकीन क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया के रेस्टोरेंट में दाखिल हुए और उन्होंने वहां के खानों को बहुत ही आमियाना बताते हुए फिरकी लेने की कोशिश की. यह बात जब Nelson Wang तक पहुंची तो वो आग बबूला हो गये. उन्होंने कस्टमर से बहस नहीं की बल्कि सीधे चिकन के कई टुकड़ों को एक साथ लपेटा, कॉर्न स्टार्च में फ्राई किया और लहसुन, अदरक, हरी मिर्च वाले सॉस और साथ में सोया सॉस के साथ परोस दिया. और इस तरह से ईजाद हुई एक बिल्कुल नई-तरीन इंडो-चाइनीज़ डिश जिसका नाम रखा गया चिकन मंचूरियन.

kya hai chicken manchurian ki kahani

दुनिया का सबसे अच्छा चिकन कौन सा है?

Nelson Wang आज की तारीख में मुंबई में China Garden के नाम से Indian-Chinese रेस्टोरेंट चलाते हैं. China Garden एक चैन ऑफ रेस्टोरेंट बन चुका है और मुंबई के साथ बेंगलुरू, गोवा, पुणे, हैदराबाद और दिल्ली में भी इसकी शाखाएं हैं. यहां के लज़ीज़ Chicken Manchurian के सभी दीवाने हैं. तो कुल मिलाकर बात यहीं पर आकर खत्म होती है कि चिकन मंचूरियन को बनाने वाले भले ही चाईनीज़ मूल के हों लेकिन इसकी पैदाइश भारत में ही हुई है. तो इसका क्रेडिट आप चाईना और इंडिया दोनों को ही दे सकते हैं. और इस लिहाज़ से चिकन मंचूरियन पर हम हिंदी चीनी भाई-भाई हुए. आज की तारीख में चिकन मंचूरियन देश भर में खिलाया जा रहा है और वो भी अच्छे से अच्छा. तो आप जहां कहीं भी हैं चिकन मंचूरियन का लुत्फ उठाते रहिए और इस छोटी सी जिंदगी के मजे लेते रहिए.

Share this story