बलरामपुर जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव ,सपा -भाजपा ने घोषित किये candidate ,बसपा बाहर 

जिला पंचायत चुनाव बलरामपुर
 Balrampur zila panchayat chunav 

बलरामपुर। जिला पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद से किंगमेंकर बनने के लिए दिग्गजों ने उठा बैठ शुरू कर दी है। शुरू में केवल सपा ने अपना पत्ता खेला था। 17 जून को भारतीय जनता पार्टी ने भी अपने उम्मीदवार की आधिकारिक घोषणा कर दी। जिसके बाद से राजनैतिक गलियारों में हलचल तेज हो गई है। शेष राजनीतिक पार्टियों ने अपने प्रत्याशी को लेकर अभी कोई घोषण नहीं की थी।  वहीं सभी दिग्गजों की नजर माना जा रहा था कि बसपा भी अपना प्रत्याशी मैदान में उतारेगी। लेकिन नामांकन पत्रों के बिक्री के अंतिम दिन तक बसपा ने कोई पर्चा नही खरीदा। ऐसे में वह अध्यक्ष पद की लड़ाई से बाहर हो गई है। ऐसे में अब सीधी लड़ाई भाजपा व सपा में है। बड़ी कुर्सी के लिए अब सभी दिग्गजों की नजर निर्दलीय जिला पंचायत सदस्यों पर है। 


                       जिला पंचायत अध्यक्ष पद सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित होने के बाद राजनैतिक दिग्गजों ने अपने अपने परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों व सहयोगियों पर दांव लगाते हुए चुनाव मैदान में उतार दिया। परन्तु पंचायत चुनाव के परिणामों ने सारे दांव पेंच में उल्ट फेर कर दिया। चुनाव परिणाम आने के बाद दिग्गज नेताओं को हार का सामना करना पड़ा। अब दिग्गजों की साख बड़ी कुर्सी के लिए दांव पर लगेगी। जिले में तीन जुलाई को अध्यक्ष पद के लिए मतदान व मतगणना होगी। अधिसूचना जारी होंने के बाद से ही सभी राजनीतिक पार्टिया अपना अपना समीकरण बैठाने में जुट गयी थी। पंचायत चुनाव के बाद समाजवादी पार्टी ने सबसे अधिक सीट पर चुनाव जीती तो वही सत्ता रूढ़ बीजेपी के पहले में केवल छह सीटें ही आई है। शुरुवात में ही बड़ी कुर्सी के लिए केवल सपा ने अपना पत्ता खोलते हुए की जिला पंचायत सदस्य  किरन यादव को अपना प्रत्याशी घोषित किया था। किरन यादव ने हरैया सतघरवा वार्ड से  जीत हासिल किया है। वहीं गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी ने युवा चेहरे को अपना प्रत्याशी बनाया है। बीजेपी ने 21 वर्षीय आरती तिवारी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। आरती तिवारी ने चौधरीडीह वार्ड से अपने प्रतिद्वंदी को लगभग 8500 वोटो से हराकर जीत हासिल की है। सपा व भाजपा को छोड़ कर अभी किसी भी पार्टी ने अपने उम्मीदवार की घोषणा नही की है।

Arti tiwari

भाजपा की अधिकृत प्रत्याशी आरती तिवारी 

निर्दलीय सदस्यों की होगी अहम भूमिका

जिला पंचायत चुनाव में अध्यक्ष कुर्सी के लिए भाजपा और सपा मैदान में हैं। पंचायत चुनाव में मिली सफलता के बाद समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं में जोश देखने को मिल रहा है। जिले की 40 जिला पंचायत सीटों में से समाजवादी पार्टी ने 11 सीटें हासिल की है। भारतीय जनता पार्टी के खेमे में मात्र 6 सीटें ही आई हैं। ऐसे में निर्दलीय चुनाव जीतने वाले जिला पंचायत सदस्य की अहम भूमिका बड़ी कुर्सी की लड़ाई में रहेगी। बता दें कि जिले की 12 सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी जीत हासिल की है। ऐसे में निर्दलीय जिला पंचायत सदस्यों को मनाने में बड़ी पार्टियां लगी हुई हैं।


बसपा हुई अध्यक्ष पद के चुनाव से बाहर

नामांकन पत्रों की बिक्री के अंतिम दिन भी बहुजन समाज पार्टी द्वारा अध्यक्ष पद की दावेदारी के लिए कोई पर्चा नहीं खरीदा गया। ऐसे में बसपा अध्यक्ष पद की लड़ाई से बाहर हो गई है। बता दें कि बसपा ने जिला पंचायत की 40 सीटों में 10 सीटों पर जीत हासिल की थी। बसपा समर्थित प्रत्याशी राम शिरोमणि वर्मा श्रावस्ती लोकसभा से सांसद है। माना जा रहा था पूर्व सांसद रिजवान जहीर के भाई सलमान की पत्नी रेशमा बेगम को अपना प्रत्याशी घोषित करेगी। लेकिन बसपा ने अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए किसी को अपना प्रत्याशी नहीं बनाया।


महिलाओं ने नहीं संभाली है अभी तक अध्यक्ष पद की कुर्सी


बलरामपुर जिला बनने के बाद से अब तक जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी महिलाओं ने ही संभाली है। गोंडा के साथ बलरामपुर की पहली अध्यक्ष बनने का सौभाग्य सीमा पांडे को मिला था। इन्होंने वर्ष 1998 में कुर्सी संभाली थी। बलरामपुर जिला बनने के बाद अध्यक्ष पद पिछड़ी जाति की महिला के लिए आरक्षित था। भाजपा की सोनपता 1998 से वर्ष 2000 तक अध्यक्ष बनी। महिला के लिए आरक्षित सीट पर भाजपा के पूर्व सांसद स्वर्गीय सत्यदेव सिंह की पत्नी स्वर्गीय सरोजिनी ने वर्ष 2000 में जीत दर्ज की। वर्ष 2006 सीट अनारक्षित होने के बाद पूर्व मंत्री डॉ एस पी यादव की पत्नी को टक्कर देते हुए पूर्व सांसद रिजवान जहीर की पत्नी हुमा रिजवान अध्यक्ष बनी। दूसरी बार भी हुमा रिजवान ने निर्विरोध जीत दर्ज की और वर्ष 2000 से 2016 तक अध्यक्ष रही। 14 जनवरी 2016 से 13 जनवरी 2021 तक अनुसूचित महिला के के लिए सीट आरक्षित होने के बाद समाजवादी पार्टी की रामावती अध्यक्ष बनी।


26 जून को होगा नामांकन

कलेक्ट्रेट परिसर में 26 जून को 11 बजे से 3 बजे तक नामांकन प्रक्रिया चलेगी। सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि कलेक्ट्रेट परिसर के कक्ष संख्या 27 में नामांकन पत्र दाखिल किया जाएगा। नामांकन कक्ष में प्रत्याशी के साथ केवल अनुमोदक व प्रस्ताव को जाने के लिए अनुमति होगी। 29 जून को सुबह 11 बजे से नाम वापसी होगी। 3 जुलाई को ही मतदान व मतगणना होगी।


यह है जिले की सीटों का आंकड़ा

जिला पंचायत चुनाव में समाजवादी पार्टी बलरामपुर में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। समाजवादी पार्टी इस चुनाव में जिला पंचायत सदस्य की 40 में से 11 सीटों पर जीत हासिल की वही। बहुजन समाज पार्टी ने 10 सीटों पर जीत हासिल किया। सत्तारूढ़  भारतीय जनता पार्टी जिला पंचायत में 6 सीटें ही हासिल कर पाई। वही कांग्रेस ने एक सीट पर कब्जा किया है। बता दें कि जिले की 40 सीटों में 12 निर्दल प्रत्याशियों ने  जीत हासिल की है।

Share this story