बजट में युवाओं, किसानों और गरीब व मध्यम वर्ग के लिए कुछ भी नहीं है:सतीश चतुर्वेदी 

Satish kumar chaturvedi
 ब्यूरो चीफ आर एल पाण्डेय

लखनऊ। उ.प्र.बजट को लेकर लोक जन समाज पार्टी भारत के राष्ट्रीय अध्यक्ष सतीश कुमार चतुर्वेदी ने प्रदेश सरकार पर हमला बोलते हुए कहा की यूपी की भाजपा सरकार के बजट में युवाओं, किसानों और गरीब व मध्यम वर्ग के लिए कुछ भी नहीं है बेरोजगारी पर सरकार गलत आकड़े देकर युवाओं को धोखा दे रही है, प्रदेश की भाजपा सरकार के सबसे बड़े बजट में केवल सिर्फ झूठ का पुलिंदा है जिसके माध्यम से युवा, किसान व गरीब को छलने का काम किया गया तो वहीं महिलाओं और छात्र-छात्राओं को झूठे सपने दिखाने का। सतीश कुमार चतुर्वेदी ने भाजपा की डबल इंजन सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार ने बीते सात वर्षों में सालाना बजट, केन्द्रीय राज्यांश, इन्वेस्टर समित में आये निवेश और डिफेंस एक्सपो जैसे निवेश कार्यक्रमों के माध्यम से 100 लाख करोड़ रुपये हासिल करने का दावा किया है लेकिन धरातल पर ये सरकार 10 सही काम भी नहीं गिनवा पारही है।

भाजपा सरकार स्वयं ये बात कहती है कि उन्हें 40 लाख करोड़ का निवेश उद्योगपतियों से मिला, 35 लाख करोड़ सालाना बजट से हासिल किया,केंद्र सरकार से उन्हें राज्यांश मिला। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी समय-समय पर उत्तर प्रदेश को राशि देने की घोषणा करते रहते हैं। सरकार को बताना चाहिए कि आखिर ये पैसा किस पर और किसके माध्यम से खर्च किया गया। साथ ही प्रधानमंत्री जो घोषणा करते हैं वास्तव में वो पैसा प्रदेश सरकार को मिलता भी है या ये सिर्फ कोरी घोषणा ही रहती है।
महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती किरन सिन्हा ने कहा कि इस बजट ने पूरे प्रदेश की जनता को निराश कर दिया है। हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सतीश कुमार चतुर्वेदी ने बजट को गुमराह करने वाला और दिशाहीन बताते हुए कहा कि इस बजट में आम आदमी के लिए कुछ भी नहीं है।

श्री सतीश कुमार चतुर्वेदी ने बजट पर सवाल उठाते हुए भाजपा की डबल इंजन सरकार से सवाल किया कि क्या इस बजट से रोजगार में बृद्धि हुई है? क्या इससे महंगाई में राहत मिली है? ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। यहां ईज ऑफ़ डूइंग नहीं ईज ऑफ़ चीटिंग और ईज ऑफ़ क्राइम चल रहा है। सारे नाले नदियों में मिलते जा रहे हैं। आकड़े छुपाये और ख़बरें कंट्रोल कर दबाईं जा रहीं हैं ।


लोजसपा की राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्रीमती जानकी चतुर्वेदी ने कहा कि हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बजट की सच्चाई बताते हुए कहा कि भाजपा की डबल इंजन सरकार 90% का बजट 10% लोगों पर और 10% लोगों का बजट 90% लोगों पर खर्च कर रही है। ये सरकार गैर बराबरी को बढ़ावा दे रही है। सबका साथ सबका विकास का नारा पूरी तरह से झूठ है। मध्यम वर्ग के लोगों की एफआईआर तक नहीं लिखी जा रही है। स्वास्थ्य व्यवस्था पर सरकार ने सारे आकड़े झूठे दिए हैं। ये पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था को ही प्राइवेट हाथों में दे देना चाहते हैं। लोजसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा की डबल इंजन सरकार सामंतवादी सोच वाली सरकार है।

इसे  90% गरीब लोगों की कोई चिंता नहीं है। ये सिर्फ 10% सामंती और ताकतवर लोगों के लिए काम करती है। अपने चहेते उद्योगपतियों के लिए उसकी सहूलियत के हिसाब से उसे फायदा पहुँचाने के लिए जनता की गाढ़ी कमाई खर्च करती है ।


लोजसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भाजपा सरकार को घेरते हुए कहा कि सरकार कह रही है कि बेरोजगारी दर 2.4% रह गयी है। जबकि बेरोजगारी लगातार बढ़ती जा रही है। आज महंगे-महंगे स्कूलों में हद से ज्यादा महंगी शिक्षा लेकर भी युवा बेरोजगार है। डिग्रियां रद्दी हो गयीं हैं। यही कारण है कि अगर कोई भर्ती निकलती है तो रिक्त पदों के सापेक्ष 60-70 गुणा ज्यादा आवेदन होते हैं। युवाओं में सरकार के प्रति आक्रोश है और सरकार को युवाओं के साथ ये छलावा बहुत महंगा पड़ेगा। किसान अभी भी अपनी आय दोगुनी होने के लिए सरकार की तरफ आस लगाये बैठा है। इसके उलट सरकार ने खाद के बोरों का वजन कम कर दिया।


55 लाख से ज्यादा किसानों का नाम किसान सम्मान निधि से काट दिया गया। डीजल-पेट्रोल से लेकर तमाम कीटनाशकों तक के दामों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी कर दी गई। भाजपा सरकार की ख़राब नीतियों के कारण शिक्षा-स्वास्थ्य सेवाओं में गिरावट आई है तो वहीं दूसरी तरफ महंगाई, बेरोजगारी जैसी समस्याएं बढ़ी हैं।

परन्तु सरकार अपने चहेते उद्योगपतियों को खुश करने में लगी है। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रदेश की जनता को एक बार फिर छलने और धोखा देने का काम किया है। ये बजट काम का आना चाहिए था नाम का नहीं ।

Share this story