23 लाख निर्माण श्रमिकों के खातों में कुल 230 करोड़ की धनराशि ऑनलाइन ट्रांसफर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

UP CM Yogi aditynath ने कहा की  आपदा राहत सहायता योजना के अंतर्गत 23 लाख निर्माण श्रमिकों के खातों में कुल ₹230 करोड़ की धनराशि ऑनलाइन ट्रांसफर की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने असंगठित क्षेत्र के कामगारों के पंजीकरण हेतु http://upssb.in पोर्टल का भी शुभारंभ किया।आपदा राहत सहायता योजना के अंतर्गत 23 लाख निर्माण श्रमिकों के खातों में कुल ₹230 करोड़ की धनराशि ऑनलाइन ट्रांसफर की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने असंगठित क्षेत्र के कामगारों के पंजीकरण हेतु http://upssb.in पोर्टल का भी शुभारंभ किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज अपने सरकारी आवास में कोविड-19 के संबंध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ बैठक की। मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर पूरे प्रदेश में आंशिक कोरोना कर्फ्यू हटने पर समस्त जनता को अभी भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह दी है।

आज अपने सरकारी आवास में कोविड-19 के संबंध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ बैठक की। मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर पूरे प्रदेश में आंशिक कोरोना कर्फ्यू हटने पर समस्त जनता को अभी भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह दी है।

आज के इस अवसर पर मैं एक बार फिर से इन 23 लाख से अधिक श्रमिक बंधुओं को भरण पोषण भत्ता के लिए बधाई व शुभकामनाएं देता हूं। ध्यान रखें, कोरोना का संक्रमण कमजोर हुआ है, लेकिन समाप्त नहीं हुआ है। इसलिए, कोविड प्रोटोकॉल का पालन जरूर करें:आज के इस अवसर पर मैं एक बार फिर से इन 23 लाख से अधिक श्रमिक बंधुओं को भरण पोषण भत्ता के लिए बधाई व शुभकामनाएं देता हूं। ध्यान रखें, कोरोना का संक्रमण कमजोर हुआ है, लेकिन समाप्त नहीं हुआ है। इसलिए, कोविड प्रोटोकॉल का पालन जरूर करें:| 

प्रदेश सरकार अपने किसान बंधुओं, श्रमिकों, युवाओं, कामगारों आदि के हितों को सुरक्षित रखने के लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य करने को संकल्पित है। आज भरण पोषण भत्ता का यह कार्यक्रम इसी उद्देश्य के साथ प्रारंभ किया गया है: प्रदेश सरकार अपने किसान बंधुओं, श्रमिकों, युवाओं, कामगारों आदि के हितों को सुरक्षित रखने के लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य करने को संकल्पित है। आज भरण पोषण भत्ता का यह कार्यक्रम इसी उद्देश्य के साथ प्रारंभ किया गया है:

विगत वर्ष हमारे सामने चैलेंज ज्यादा था। 40 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक व कामगार प्रदेश में आए थे। सभी के लिए रहने-खाने की व्यवस्थाएं की गई थीं। प्रदेश सरकार ने जनप्रतिनिधियों व स्वयं सेवी संगठनों के साथ मिलकर के सफलतापूर्वक कार्यक्रम को आगे बढ़ायाविगत वर्ष हमारे सामने चैलेंज ज्यादा था। 40 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक व कामगार प्रदेश में आए थे। सभी के लिए रहने-खाने की व्यवस्थाएं की गई थीं। प्रदेश सरकार ने जनप्रतिनिधियों व स्वयं सेवी संगठनों के साथ मिलकर के सफलतापूर्वक कार्यक्रम को आगे बढ़ाया| 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा किमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विगत वर्ष जब लॉकडाउन लगा था तब श्रमिक वर्ग सर्वाधिक प्रभावित हुआ था। कोरोना के खिलाफ लड़ाई को आगे बढ़ाने हेतु श्रमिकों ने प्रदेश की 25 करोड़ जनता को बचाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। इसी का परिणाम है कि सरकार  जनता को बचाने में सफल रही हैविगत वर्ष जब लॉकडाउन लगा था तब श्रमिक वर्ग सर्वाधिक प्रभावित हुआ था। कोरोना के खिलाफ लड़ाई को आगे बढ़ाने हेतु श्रमिकों ने प्रदेश की 25 करोड़ जनता को बचाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। 

हम सब की लड़ाई कोरोना के खिलाफ विगत सवा वर्ष से चल रही है। बहुत से ऐसे लोग होंगे जिन्होंने इस महामारी में अपने परिजनों को खोया होगा। उन सभी के प्रति मैं अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं:हम सब की लड़ाई कोरोना के खिलाफ विगत सवा वर्ष से चल रही है। बहुत से ऐसे लोग होंगे जिन्होंने इस महामारी में अपने परिजनों को खोया होगा। उन सभी के प्रति मैं अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं:| 

रजिस्टर्ड श्रमिकों को भरण पोषण भत्ता उपलब्ध कराने के आज के इस कार्यक्रम में उपस्थित मंत्रिगण, सदस्यगण समेत सभी अधिकारीगण, जनपदों से जुड़े सभी सांसद व अन्य सभी लोगों का मैं हृदय से स्वागत व अभिनंदन करता हूंरजिस्टर्ड श्रमिकों को भरण पोषण भत्ता उपलब्ध कराने के आज के इस कार्यक्रम में उपस्थित मंत्रिगण, सदस्यगण समेत सभी अधिकारीगण, जनपदों से जुड़े सभी सांसद व अन्य सभी लोगों का मैं हृदय से स्वागत व अभिनंदन करता हूं| 

Share this story