अभाविप ने 11 सूत्री मांगों को लेकर किया विरोध प्रदर्शन

अभाविप ने 11 सूत्री मांगों को लेकर किया विरोध प्रदर्शन


ABVP


ABVP demonstrated


जयपुर, 9 सितम्बर (हि.स.)। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने गुरुवार को जयपुर सहित अन्य 33 जिला मुख्यालय पर अपनी 11 सूत्री मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया। राजधानी जयपुर में अभाविप कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट पर धरना दिया। जहां बड़ी संख्या में युवाओं ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की, इस दौरान जयपुर जिला कलेक्ट्रेट पर एबीवीपी कार्यकर्ताओं और पुलिस में नोकझोंक भी हुई।

अभाविप के प्रांत मंत्री हुशियार मीणा ने बताया कि प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था और छात्रों की समस्याओं को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने गुरुवार को कांग्रेस सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए सभी जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया गया है। वहीं इसके अलावा कांग्रेस युवाओं से वादे कर सत्ता में तो आ गई,लेकिन ढाई साल का वक्त बीत जाने के बाद भी युवाओं से किया गया एक भी वादा पूरा नहीं किया गया है। ऐसे में अगर समय रहते युवाओं की मांग नहीं मानी गई। तो प्रदेश भर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा सरकार के खिलाफ उग्र आंदोलन शुरू किया जाएगा। जिसके लिए सिर्फ सरकार ही जिम्मेदार होगी।

मीणा ने बताया कि उनकी मांग है कि राजस्थान सरकार ने बेरोजगारों को रोजगार भत्ता देने का वादा किया था। उसे जल्द से जल्द पूरा किया जाए। विश्वविद्यालय महाविद्यालय में जिन छात्रों ने सुविधा का उपयोग नहीं किया है। उन छात्रों की फीस वापस की जाए। जिन विश्वविद्यालय में टीचिंग और नॉन टीचिंग के पद रिक्त पड़े हुए हैं। उन्हें तुरंत प्रभाव से भरा जाए। जिन छात्रों की छात्रवृत्ति रोकी गई है। उन्हें तुरंत प्रभाव से खाते में डाला जाए। राजस्थान सरकार में शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए रिश्तेदारों को आरएएस इंटरव्यू मेला पहुंचाया है। उन्हें पदमुक्त किया जाए।

कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में निशुल्क छात्रा शिक्षा का वादा किया। जिसे तुरंत लागू किया जाए। निजी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों पर एक कमेटी गठित कर के समान फीस निर्धारण की जाए। महिला उत्पीड़न में राजस्थान सरकार देश में पहले नंबर पर पहुंच चुकी है। ऐसे में मुख्यमंत्री खुद संज्ञान लेते हुए दोषियों के जल्द से जल्द खिलाफ कार्रवाई करें।

राजस्थान में सरकारी विभागों में लंबित भर्तियों का छात्र हित में समाधान करके युवाओं और बेरोजगारों को राहत दी जाए। राजस्थान के सभी विश्वविद्यालयों में एक साथ ही शोध प्रवेश परीक्षा करवाई जाए और परीक्षा करवाने की निश्चित समय अवधि भी जारी की जाए। राजस्थान में नशे के बढ़ते व्यापार और शराब तस्करी पर रोक लगाई जाए।

टेंट लगाने को लेकर एबीवीपी कार्यकर्ताओं और पुलिस में नोकझोंक

इधर जयपुर कलेक्ट्रेट कार्यालय के बाहर टेंट लगाने को लेकर अभाविप कार्यकर्ताओं और पुलिस में नोकझोंक देखने का मिली। जानकारी के अनसार धूप से बचने के लिए अभाविप के कार्यकर्ता टेंट लगाना चाह रहे थे,जबकि पुलिस ने उसकी परमिशन नहीं दी। इस पर कार्यकर्ता टेंट लगाने की जिद पर अड़ गए। इस बीच कार्यकर्ताओं और पुलिस से नोकझोक हो गई।

हिन्दुस्थान समाचार/ दिनेश/ ईश्वर

Share this story