हर 40 सेकंड में एक मृत्यु आत्महत्या के कारण



कोटा, 9 सितंबर(हि.स.)। विश्वभर में दस सितंबर को अंतरराष्ट्रीय आत्महत्या रोकथाम दिवस के रूप में मनाया जाता है। अग्रवाल न्यूरो साईकेट्री सेंटर के वरिष्ठ मनोचिकित्सक डॉ. एमएल अग्रवाल ने बताया कि विश्व में प्रत्येक वर्ष आठ लाख लोगों की मृत्यु आत्महत्या की वजह से होती है। जिसमें से एक लाख 39 हजार मृत्यु हमारे देश में होती हैं। हर 40 सेकंड में 1 मृत्यु आत्महत्या के कारण होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 50 प्रतिशत या 80 प्रतिशत आत्महत्याओं को जन जागृति एवं मानसिक स्वास्थ्य के प्रचार-प्रसार के द्वारा रोका जा सकता है। इसी उद्देश्य से इंटरनेशनल सुसाइड प्रीवेनशन सोसायटी, विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं वल्र्ड फेडरेशन ऑफ मेंटल हेल्थ द्वारा 10 सितंबर को आत्महत्या रोकथाम दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस कोरोना महामारी में मानसिक समस्याओं की घटना में वृद्धि हुई है।

उल्लेखनीय है कि कोटा सोसाइटी विगत 10 वर्षों से प्रशासन व फार्मो के सहयोग से 24x7 हेल्पलाइन का संचालन कर अभी तक 9000 से ज्यादा व्यक्तियों को लाभ पहुंचाया व अनेक मरीजों को सुसाइड पॉइंट से उठाकर नया जीवन दिया है।

होप सोसाइटी अध्यक्ष डॉक्टर एमएल अग्रवाल समय-समय पर जिला प्रशासन द्वारा आयोजित मरीजों के विषय पर गाइडलाइन बराबर पिछले 10 वर्षों से दे रहे हैं। कोरोनाकाल मे भी हेल्पलाइन का संचालन 1 दिन के लिए भी बंद नहीं हुआ तथा अनेक लोगों को कईं तरह की जानकारी उपलब्ध कराई है।

हिन्दुस्थान समाचार/राकेश शर्मा/संदीप

Share this story