अच्छा खिलाड़ी बनने के लिए अपने वजन को घटाना पड़ा : थीक्षाना

अच्छा खिलाड़ी बनने के लिए अपने वजन को घटाना पड़ा : थीक्षाना
अच्छा खिलाड़ी बनने के लिए अपने वजन को घटाना पड़ा : थीक्षाना मुंबई, 11 मई (आईएएनएस)। चेन्नई सुपर किंग्स और श्रीलंका के 21 वर्षीय स्पिनर महेश थीक्षाना ने खुलासा किया है कि वह अंडर-19 स्तर पर कई बार फिटनेस टेस्ट में असफल रहे थे, लेकिन उनके कभी ना हार माने वाले इरादे ने उन्हें आज आईपीएल जैसी लीग में शानदार खिलाड़ी बनने में मदद की।

ऑफ स्पिनर ने इस सीजन में चार बार के आईपीएल चैंपियन के लिए आठ मैचों में 12 विकेट लिए हैं, जिसमें उनका सर्वश्रेष्ठ 4/33 है।

एक क्रिकेटर के रूप में शुरुआती संघर्षों के बारे में थीक्षाना ने कहा कि जब से वह फिटनेस टेस्ट में असफल रहे थे, तो वह अंडर-19 टीम में वॉटरबॉय (बारहवां खिलाड़ी) का काम करते थे।

थीक्षाना ने सीएसके टीवी को बताया, मैं अंडर-19 टीम में 2017-18 में वापस गया था। लेकिन मुझे कभी खेलने का मौका नहीं मिला, क्योंकि मैं दो या तीन बार फिटनेस टेस्ट में फेल हो गया था। 2019 में मुझे तीन दिनों में 10 मैचों के लिए वाटरबॉय बनना पड़ा। मुझे पता था कि अगर मैं असफल रहा, तो मुझे फिर से बोतलें ले उठानी पड़ेगी। मुझे खुद पर विश्वास था और मैंने कभी हार नहीं मानी और कड़ी मेहनत की। यही कारण है कि मैं 2022 में यहां अच्छा स्पिन गेंदबाज बन सका।

प्रतिस्पर्धी क्रिकेट के इस स्तर तक पहुंचने के लिए इस बारे में खुलासा करते हुए युवा खिलाड़ी ने कहा कि उन्हें अपना वजन 107 किग्रा से कम करने के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत करनी पड़ी, जिसके बाद उनका वजन कम हुआ।

उन्होंने कहा, मैं अंडर-19 के दिनों में 107 किग्रा का था, इसलिए मुझे यो-यो टेस्ट में अपना वजन घटाने पर अधिक मेहनत करनी पड़ी। 2020 में, मैंने अपना वजह कम किया और अपने फिटनेस में सुधार किया। 2021 में, मैंने अपने देश का प्रतिनिधित्व किया। 2022 में, फिटनेस टेस्ट में भी पास हो गया था। वहीं, दक्षिण अफ्रीका में मुझे वनडे मैच में खेलने का मौका मिला था। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं 21 साल की उम्र में विश्व कप में खेलने जाऊंगा।

21 वर्षीय स्पिनर ने आगे श्रीलंकाई स्पिनर अजंता मेंडिस और महेंद्र सिंह धोनी के अपने करियर पर प्रभाव के बारे में बताया।

उन्होंने कहा, मैंने अजंता मेंडिस से प्रेरणा ली। 2020 में, मैंने अजंता मेंडिस के साथ बातचीत की और 2022 में मैंने एमएस धोनी से बात की। मैंने पिछले साल सीएसके के साथ नेट बॉलर के रूप में काम किया था। कभी नहीं सोचा था कि वे मेरे लिए बोली लगाएंगे या मुझे इस साल अपनी टीम में शामिल करेंगे।

--आईएएनएस

आरजे/एएनएम

Share this story