ऑनलाइन एप के माध्यम से नशीला पदार्थ डिलीवर करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार, फ्लिपकार्ट के लिफाफे का करता था इस्तेमाल

ऑनलाइन एप के माध्यम से नशीला पदार्थ डिलीवर करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार, फ्लिपकार्ट के लिफाफे का करता था इस्तेमाल
ऑनलाइन एप के माध्यम से नशीला पदार्थ डिलीवर करने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार, फ्लिपकार्ट के लिफाफे का करता था इस्तेमाल नोएडा, 21 सितंबर (आईएएनएस)। युवाओं और छात्रों को नशीला पदार्थ सप्लाई करने वाले कई गैंग का नोएडा पुलिस पहले भी खुलासा कर चुकी है लेकिन इस बार पुलिस ने एक ऐसे आरोपी को पकड़ा है जो ऑनलाइन ऐप के जरिए नशीला पदार्थ युवाओं तक डिलीवर करता था और उसे पुलिस और लोगों की नजर से बचाने के लिए बड़ी-बड़ी कंपनियों के डिलीवरी बॉक्स में डिलीवर किया करता था। पुलिस ने उसके पास से 1 किलो 300 ग्राम गांजा पकड़ा है।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक थाना फेस 2 सैन्ट्रल नोएडा पुलिस द्वारा नशीले पदार्थ की एप के माध्यम से ऑनलाइन डिलेवरी करने वाला तस्कर गिरफ्तार किया गया है। उसके कब्जे से कोरियर कम्पनी जैसे फ्लिपकार्ट छपे लिफाफा व प्लास्टिक की पन्नी में व एक बडे पैकेट में भरा कुल 1 किलो 300 ग्राम गांजा व ऑनलाइन गांजे की डिलेवरी में प्रयुक्त एक मोबाइल व मोटरसाइकिल बरामद किया है।

पुलिस ने अभियुक्त बाँके बिहारी दीक्षित को किया गिरफ्तार किया है। अभियुक्त व उसका साथी जो हरियाणा का रहने वाला है, उसके मोबाइल पर ऑनलाइन गांजे की डिमांड आने पर वह ग्राहक की लोकेशन उसे देता था, जिस पर पूर्व से तैयार किये गये कोरियर कम्पनी जैसे फ्लिपकार्ट छपे लिफाफा व थैली में डिमांड के अनुसार गांजा भरकर ग्राहको को भेजी गयी लोकेशन पर गांजा की डिलेवरी दी जाती थी। गांजा को कोरियर जैसे लिफाफा व थैली में रखे होने के कारण कोई शक नही करता था। अभियुक्त से 5 फ्लिपकार्ट छपे लिफाफे व 5 कोरियर जैसी प्लास्टिक की थैली। जिसमें गांजा पैक है व गांजा का एक बडा पैकेट बरामद हुआ है।

पुलिस ने लोगो को जागरूक करने के लिए ये संदेश दिया है की यदि आपके क्षेत्र में आसपास कोई भी व्यक्ति मादक पदार्थ (जैसे ड्रग्स, गांजा, शराब) अवैध रूप से बेच रहा है या तस्करी कर रहा है तो आप उसकी जानकारी गौतमबुद्धनगर पुलिस के फोन नंबर- 8851065641 पर व्हाट्सएप/कॉल के माध्यम से हमारे साथ साझा करें। आपकी पहचान गुप्त रखी जाएगी। किसी भी प्रकार से आपकी पहचान को उजागर नहीं किया जायेगा और अपराधियों को क्षमा नहीं किया जायेगा।

--आईएएनएस

पीकेटी/एएनएम

Share this story