कर्नाटक: नाबालिक लड़की के सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में 4 लोग गिरफ्तार

कर्नाटक: नाबालिक लड़की के सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में 4 लोग गिरफ्तार
कर्नाटक: नाबालिक लड़की के सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में 4 लोग गिरफ्तार दक्षिण कन्नड़, 25 नवंबर (आईएएनएस)। दक्षिण कन्नड़ जिले में आठ साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान जयबन उर्फ जय सिंह (21), मुकेश सिंह (20), मनीष तिर्की (33) और मुनीम सिंह (20) के रूप में हुई है। जय सिंह और मुकेश मध्य प्रदेश से हैं और मुनीम झारखंड से हैं।

रविवार को नाबालिग लड़की एक टाइल फैक्ट्री के परिसर से लापता हो गई, जहां उसके माता-पिता काम करते थे। काफी तलाशी के बाद उसका शव फैक्ट्री से लगे नाले से बरामद किया गया।

झारखंड की रहने वाली लड़की के माता-पिता को शक था कि फैक्ट्री के कर्मचारियों ने उनकी बेटी का यौन उत्पीड़न किया और उसकी हत्या कर दी। मंगलुरु ग्रामीण पुलिस ने मामले की जांच कर रही है।

जांच में पता चला कि जब लड़की फैक्ट्री के परिसर में पानी की टंकी के पास अपने तीन भाई-बहनों के साथ खेल रही थी, तो आरोपी जयबन उसका मुंह ढककर एक कमरे में ले गया और उसका यौन शोषण किया। पुलिस ने बताया कि अन्य आरोपियों ने बारी-बारी से लड़की से दुष्कर्म किया।

आरोपी जयबन ने उसकी गला दबाकर हत्या कर दी और एक अन्य आरोपी मुनीम के साथ मिलकर उसके शव को दो फुट गहरे नाले में फेंक दिया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला घोंटने, यौन शोषण और अत्यधिक रक्तस्राव की पुष्टि हुई है।

मंगलुरु के पुलिस आयुक्त एन. शशि कुमार ने दो डीसीपी और चार एसीपी की चार विशेष टीमों का गठन किया था। टीम ने फैक्ट्री के 19 मजदूरों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की। सीसीटीवी फुटेज एकत्र किए गए और कॉल सूचियों का सत्यापन किया गया और स्थानों का पता लगाया गया।

पुलिस ने मंगलवार को एक बच्चे के बयान के आधार पर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी मनीष 11 महीने पहले फैक्ट्री में काम पर आया था और तीन आरोपी तीन महीने पहले काम पर आए थे।

घटना के बाद, दो आरोपी पुत्तूर गए और अन्य दो कारखाने के आवास पर थे और यहां तक कि खुद को निर्दोष बताते हुए आरोपी ने माता-पिता के साथ हुए लड़की की तलाश भी की। पुलिस को शक है कि आरोपी ऐसे कई मामलों में शामिल रहा है। जांच जारी है।

--आईएएनएस

एमएसबी/आरएचए

Share this story