कलकत्ता हाईकोर्ट ने छात्र नेता अनीस खान की मौत की सीबीआई जांच से किया इनकार

कलकत्ता हाईकोर्ट ने छात्र नेता अनीस खान की मौत की सीबीआई जांच से किया इनकार
कलकत्ता हाईकोर्ट ने छात्र नेता अनीस खान की मौत की सीबीआई जांच से किया इनकार कोलकाता, 21 जून (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल सरकार ने मंगलवार को उस समय राहत की सांस ली, जब कलकत्ता हाईकोर्ट की एकल-न्यायाधीश पीठ ने छात्र नेता अनीस खान की रहस्यमयी मौत की सीबीआई जांच से इनकार कर दिया।

मामले में राज्य पुलिस द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) पर भरोसा जताते हुए न्यायमूर्ति राजशेखर मंथा ने मंगलवार को कहा कि फिलहाल उन्हें जांच को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को स्थानांतरित करने का कोई कारण नहीं दिखता है। चूंकि जांच प्रक्रिया को प्रभावित करने के प्रयासों का कोई सबूत नहीं है।

19 फरवरी को अनीस खान कोलकाता के हावड़ा जिले से सटे अमता स्थित अपने आवास पर रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाए गए थे। उनके परिवार का आरोप है कि वर्दी में पुलिसकर्मियों ने उनकी हत्या की है। राज्य पुलिस ने आपराधिक जांच विभाग (सीआईडी) के अतिरिक्त महानिदेशक ज्ञानवंत सिंह के नेतृत्व में एसआईटी गठित कर जांच शुरू की।

एसआईटी सदस्यों ने इस सिलसिले में एक होमगार्ड और नागरिक स्वयंसेवक को भी गिरफ्तार किया है।

19 अप्रैल को, एसआईटी ने न्यायमूर्ति राजशेखर मंथा की कलकत्ता उच्च न्यायालय की खंडपीठ को जांच पर 82-पृष्ठ की प्रगति रिपोर्ट सौंपी, जहां जांच दल ने संकेत दिया कि अनीस खान की मौत एक आत्महत्या थी।

मृतक का परिवार सीबीआई जांच की अपनी मांग पर अड़ा रहा और यह भी आरोप लगाया कि एसआईटी जांच वास्तव में असली दोषियों को बचाएगी।

कलकत्ता उच्च न्यायालय की एकल पीठ के आदेश पर गहरा असंतोष व्यक्त करते हुए अनीस खान के पिता सलेम खान ने कहा कि वह अपना रुख कायम रखे हुए हैं और मामले की सीबीआई जांच की मांग को आगे बढ़ाएंगे।

उनके वकील ने कहा कि पूरा आदेश कलकत्ता उच्च न्यायालय की वेबसाइट पर अपलोड होने के बाद वे आदेश का अध्ययन करेंगे और उसके अनुसार उचित कदम उठाएंगे।

--आईएएनएस

एसकेके/एएनएम

Share this story