कांगो में बीएसएफ जवानों की हत्या युद्ध अपराध हो सकती है : यूएनएससी

कांगो में बीएसएफ जवानों की हत्या युद्ध अपराध हो सकती है : यूएनएससी
कांगो में बीएसएफ जवानों की हत्या युद्ध अपराध हो सकती है : यूएनएससी संयुक्त राष्ट्र, 28 जुलाई (आईएएनएस)। कांगो में संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों में शामिल सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दो जवानों की हत्या एक युद्ध अपराध हो सकता है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने वहां मिशन के कार्यवाहक प्रमुख के एक दावे का समर्थन करते हुए इसकी घोषणा की है, जिन्होंने यह भी कहा कि विश्व निकाय हत्याओं के लिए जिम्मेदार लोगों को खोजने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगा।

कांगो में संयुक्त राष्ट्र के शांति सैनिकों पर हमलों की कड़ी निंदा करते हुए, सुरक्षा परिषद ने बुधवार को एक प्रेस बयान में इस बात को रेखांकित किया कि शांति अभियान में शामिल सैनिकों को निशाना बनाकर जानबूझकर किए गए हमले अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत युद्ध अपराध हो सकते हैं। इसके साथ ही बताया गया कि कांगो के अधिकारियों से इन हमलों की तेजी से जांच करने और अपराधियों को न्याय के दायरे में लाने के लिए कहा गया है।

कांगो मिशन के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के उप विशेष प्रतिनिधि कासिम डायग्ने ने संवाददाताओं से कहा, हम जांच की तह तक जाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

उन्होंने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय से कांगो की राजधानी किंशासा में संवाददाताओं से एक वीडियो लिंक के माध्यम से बात करते हुए कहा, यह स्पष्ट रूप से हमारे सैनिकों के खिलाफ शत्रुता का कार्य है और जैसा कि आप जानते हैं, यह एक युद्ध अपराध हो सकता है।

2017 में गुटेरेस द्वारा अनावरण और भारत द्वारा समर्थित शांति स्थापना को पुनर्जीवित करने के लिए एक घोषणा में कहा गया है कि संयुक्त राष्ट्र कर्मियों के खिलाफ हिंसा युद्ध अपराध हो सकती है और इसे सुरक्षा परिषद द्वारा कई बार दोहराया गया है।

उत्तरी किवु के बुटेम्बो में मंगलवार को शांति अभियान में शामिल सैनिकों पर हुए हमले में बीएसएफ के हेड कांस्टेबल सांवाला राम विश्नोई और शिशुपाल सिंह शहीद हो गए।

एक भीड़ द्वारा किए गए हमले में मोरक्को की सेना का एक शांति सैनिक भी शहीद हो गया।

उन्होंने कहा कि शांति सैनिकों के शवों को हवाई अड्डे के साथ उत्तर-पूर्वी कांगो के एक बड़े शहर बेनी में स्थानांतरित किया जा रहा है।

उन्होंने आगे कहा, हम इन अवशेषों को भारत और मोरक्को में उनके परिवारों के पास वापस जाने की व्यवस्था को देख रहे हैं।

बीएसएफ के जवान कांगो में संयुक्त राष्ट्र संगठन स्थिरीकरण मिशन के पुलिस घटक में सेवा दे रहे थे, जिसे फ्रेंच में अपने नाम के आद्याक्षर (इनिशियल) के आधार पर मोनुस्को के नाम से जाना जाता है।

वहां की तैनाती की बात की जाए तो 139 पुलिस - उनमें से कई महिलाएं - और भारत से 1,888 सैन्य कर्मी मोनुस्को में तैनात किए गए थे।

बीएसएफ के दो जवानों के शहीद होने के साथ ही शांति अभियानों में शहीद हुए भारतीयों की कुल संख्या बढ़कर 177 हो गई है।

मोनुस्को की स्थापना 2010 में सुरक्षा परिषद द्वारा की गई थी, जो 1999 में बनाए गए पहले के मिशन को सफल बनाने के लिए, नागरिक संघर्ष से पीड़ित देश में स्थिरता लाने और देश के कुछ हिस्सों में कुछ मिलिशिया और विद्रोही समूहों के स्वतंत्र शासन को समाप्त करने के लिए स्थापित किया गया था।

डायग्ने ने कहा कि दो दिनों की अशांति के बाद स्थिति तेजी से नियंत्रण में की गई है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र बेहद सतर्क रहेगा, क्योंकि यह स्थिति और विकसित हो सकती है।

उन्होंने कहा कि कुछ कांगो के विरोध में घुसपैठ करने वाले गिरोह और सशस्त्र समूह शांति सैनिकों पर गोलीबारी के लिए जिम्मेदार हैं।

उन्होंने कहा, यही वह समूह है, जिस पर हम सरकार के साथ सहमत हुए हैं, जिस पर हमें गौर करने की जरूरत है कि इसमें शामिल लोगों की पहचान की जाए और यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि वे न्याय के दायरे में लाए जाएं।

उन्होंने संयुक्त राष्ट्र की सुविधाओं से आपूर्ति (विभिन्न प्रकार का सामान) की लूट और सोशल मीडिया पर देखी गई बर्बरता का वर्णन करते हुए कहा, मैं उन्हें प्रदर्शनकारी भी नहीं कहूंगा, मैं तो उन्हें लुटेरा और अपराधी कहूंगा।

कांगो की समाचार रिपोटरें में कहा गया है कि विरोध का आयोजन सत्ताधारी दल, यूनियन फॉर डेमोक्रेसी एंड सोशल प्रोग्रेस के भीतर एक समूह द्वारा किया गया था, जिसमें नागरिकों और सरकार पर विद्रोही समूहों द्वारा हमलों को रोकने में संयुक्त राष्ट्र की अक्षमता के बारे में शिकायत की गई थी।

प्रदर्शनकारियों की एक मांग यह है कि संयुक्त राष्ट्र को देश से हटना चाहिए।

डायग्ने ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के साथ संचार में था और बताया कि संयुक्त राष्ट्र का अभियान इस प्रकार की प्रक्रिया में रहा है।

दूसरी ओर, कांगो में काफी लोग, लोगों पर जुल्म करने वाले सशस्त्र लड़ाकों की वापसी के डर से, मोनुस्को की वापसी के खिलाफ हैं।

उन्होंने उन खबरों का खंडन किया कि कांगो दंगों में 50 लोग मारे गए हैं और कुछ पत्रकारों ने दावा किया था कि संयुक्त राष्ट्र बलों ने प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी की थी।

डायग्ने ने कहा कि कांगो के आंतरिक मंत्री, डैनियल असेलो ओकिटो ने कहा है कि दंगों में शांति सैनिकों सहित केवल 15 लोग मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र कांगो सरकार के सहयोग से पूरी तरह से फोरेंसिक जांच चाहता है, क्योंकि यह दिखाएगा कि प्रदर्शनकारियों को जो गोलियां लगीं, वे शांति सैनिकों के शस्त्रागार से नहीं थीं।

उन्होंने कहा, संयुक्त राष्ट्र बलों ने हवा में चेतावनी के तौर पर शॉट दागे थे, लेकिन एक आपदा हो सकती है, क्योंकि हजारों लोग थे और आप जानते हैं कि लोग परिसर में दीवारों पर चढ़ रहे थे।

कांगो में संयुक्त राष्ट्र के अभियान शांति सैनिकों के लिए सबसे घातक रहे हैं।

देश को बेल्जियम से आजादी मिलने के तुरंत बाद 1960 के दशक में पहले हुए ऑपरेशन के बाद से तीन ऑपरेशन में 650 शांति सैनिक अपनी जान गंवा चुके हैं।

--आईएएनएस

एकेके/एसकेपी

Share this story